विश्व विरासत दिवस पर युवाओं की “सोशल फोटो वॉक” की पहल

रायपुर: 18 अप्रैल को विश्व विरासत दिवस के मौके पर मीर फॉउंडेशन द्वारा “सोशल फोटोवॉक” की पहल की गई जिसमें युवाओं ने बड़ी संख्यां में भाग लिया, फॉउंडेशन के उपाध्यक्ष हिमांशु चंद्रवंशी ने बताया कि हमने इस इनिशिएटिव में युवाओं से अपील की थी कि वह अपने-अपने शहरों में कम से कम 1 घंटे का समय निकालकर अपने दोस्तों या फैमिली के साथ घूमने निकलें और अपने-अपने शहर किसी भी पुराने स्थल की पिक्चर को #सोशलफोटोवॉक पर हैशटैग करके पोस्ट करें।

विश्व विरासत
विश्व विरासत

उम्मीद से बहुत बड़ा रिस्पोंस मिला

हिमांशु ने बताया की पहले हमने इसे केवल दोस्तों के साथ साझा किया था कि वह इस मुहीम में शामिल हों, मगर देखते ही देखते यह इनिशिएटिव ऑनलाइन ट्रेंड करने लगा और युवाओं ने उसे जमकर शेयर किया जिस छोटी सी सोच को हमनें केवल रायपुर तथा कुछ शहरों के लिए सोच रखा था उसका रिसपोंस यह हुआ कि देश के अलग-अलग कोने से युवाओं ने मिलकर हमारी संस्कृति को सेलीब्रेट किया तथा रायपुर, धमतरी, भिलाई, कवर्धा के अलावा दिल्ली, आगरा, मुम्बई, लखनऊ यहां तक कि कुछ तस्वीरें विदेशों से भी इस इनिशिएटिव के माध्यम से हमें मिली तथा पूरे दिन यह वर्ल्ड हेरिटेज डे पर यह हैशटैग ट्रेंड करता रहा और लगभग 200 से अधिक तस्वीरें हमें सीधे प्राप्त हुयी वहीं बहुत सी तस्वीरें युवाओं ने खुद अपनी टाईमलाईन में पोस्ट की है.

फ़िल्ममेकर अमीर हाशमी ने की अपील

हिमांशु चंद्रवंशी ने बताया कि इस इनिशिएटिव को लेकर हम पहले थोड़ा क्लीयर नहीं थे और सोशल नेटवर्किंग पर इसे कैसे युवाओं तक पहुंचाया जायेगा इसे लेकर थोड़ा परेशान भी थे और फंड भी नहीं था कि जिससे बड़ी-बड़ी होर्डिंग लगाकार मार्केटिंग की जा सकें लेकिन इस पूरे अभियान के मुख्य सूत्रधार बने फिल्ममेकर अमीर हाशमी जिन्होंने भारतीय संस्कृति और परम्पराओं के ना सिर्फ बिना किसी ब्रांड-फ़ीस के राज़ी हुए बल्कि अपने फ़ेसबुक पेज पर विडियो डालकर इसे प्रोत्साहित भी किया, अमीर ने अपने फेसबुक पेज पर इस मुहीम के लिए एक वीडियों पोस्ट करके अपने फैन्स से अपील की, कि वह 18 अप्रेल को घर से निकलकर वर्ल्ड हेरिटेज डे सेलिब्रेट करें, हाशमी ने लगभग 4 मिनट के वीडियों में कहां कि “आज हम उस युग में जी रहें है जहां घर से स्कूल, कॉलेज, या ऑफिस और वापस घर आकर फिर हम टी.वी. और सोशल नेटवर्क पर लग जाते है, लेकिन हम जहां सालों से रह रहें है वहाँ अपने ही शहरों की संस्कृति और विरासत से रूबरू नहीं हो पाते है

विश्व विरासत
विश्व विरासत

आप समय निकालकर किसी भी मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारे, चर्च, चौराहे, पुरानी इमारत ज़रूर घूमिये और अपनी तस्वीर साझा कीजिये। हिमांशु कहते है कि युवाओं के मध्य हाशमी की ब्रांडिंग ऐसी है जिसके लिए हमें लाखों की होर्डिंग भी शायद कम ही पढ़ जाती मगर उनके एक अपील करने से यह छोटा सा क़दम विश्व स्तरीय हो गया और वही अमीर हाशमी ने अपने द्वारा ली गयी इंडिया गेट की तस्वीरें भी मुम्बई से इस मुहीम के लिए साझा की हैं.

Back to top button