सॉफ्टबैंक का वादा आईएसए के सभी सदस्यों को मिलेगा मुफ्त में बिजली

25 साल बाद मुफ्त में बिजली की सप्लाई का ऑफर

नई दिल्ली। सॉफ्टबैंक ने इंटरनेशनल सोलर अलायंस (आईएसए) के सभी सदस्यों को 25 साल बाद मुफ्त में बिजली की सप्लाई का ऑफर दिया है।

सॉफ्टबैंक

जापानी ग्रुप के संस्थापक और सीईओ मासायोसी सन ने कहा कि प्रॉजेक्ट्स के पावर परचेज अग्रीमेंट (पीपीए) खत्म होने के बाद इन देशों को क्लीन एनर्जी की सप्लाई वह फ्री में करेगा।

सन ने बताया, ‘अब इसमें न तो पैसे की अड़चन है और न ही टेक्नॉलजी की। 25 साल के पीपीए की अवधि के दौरान मैं अपना इनवेस्टमेंट निकाल लूंगा, उसके बाद मैं समाज के लिए कुछ करना चाहूंगा।’ सन ने कहा कि सोलर पैनल को करीब 80 साल तक मेंटेन करके चलाया जा सकता है।

पहले 25 साल में प्लांट 90-100 पर्सेंट की कपेसिटी के साथ काम करेंगे। उसके बाद इनकी एफिशिएंसी घटकर 85 पर्सेंट रह जाएगी और यह अगले 55 साल तक स्टेबल रहेगी।

सन ने बताया, ‘हम आज सोलर टेक्नॉलजी को समझते हैं। हमें पता है कि यह काम कैसे किया जा सकता है। हमारे पास पैसा है। टेक्नॉलजी की अड़चन भी नहीं है। जब तक सूरज चमकता रहेगा, हम यह वादा निभाएंगे।’

सन ने यह बात सरकार की फ्लैगशिप रीन्यूएबल एनर्जी इवेंट री-इनवेस्ट में कही, जिसे उन्होंने बुधवार को संबोधित किया।

उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में पेट्रोल के दाम 20 पर्सेंट बढ़े हैं। रीन्यूएबल एनर्जी की कीमत आज सबसे कम है। यह भारत जैसे देश में एनर्जी सिक्यॉरिटी का सबसे सुरक्षित रास्ता है।

सन ने बताया कि जापान के फुकुशिमा में साल 2011 में न्यूक्लियर प्लांट हादसे के बाद उन्होंने क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में काम करने निश्चय किया था।

सॉफ्टबैंक भारत में एसबी एनर्जी के जरिए रीन्यूएबल एनर्जी सेगमेंट में है। एसबी एनर्जी सुनील मित्तल की भारती एंटरप्राइजेज और ताइवान की कंपनी फॉक्सकॉन के साथ जॉइंट वेंचर है।

Back to top button