छत्तीसगढ़

कांकेर जिला से चारामा ब्लॉक का जवान भी चीन विवाद में हुआ शहीद

खबर के बाद से शहीद जवान के ग्राम गीधाली में शोक का माहौल

कांकेर। पलवान घाटी में सोमवार रात को भारतीय सैनिक और चीनी सैनिक के बीच हिंसक झड़प हुई। इस झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं। लगभग पचास साल बाद पहली बार एलएसी पर भारतीय जवानों की शहादत हुई है।

मंगलवार को इलाज के दौरान कांकेर जिला से चारामा ब्लॉक के रहने वाले एक जवान गणेश राम कुंजाम ने दम तोड़ दिया था। शहीद गणेश राम ने साल 2011 में आर्मी ज्वाइन की थी। 1 माह पहले ही चीन बॉर्डर पर उसकी पोस्टिंग की गई थी। इस खबर के बाद से शहीद जवान के ग्राम गीधाली में शोक का माहौल है।

बता दें कि चीनी सेना के साथ 15-16 जून की रात भारतीय सेना की झड़प हुई. भारत सैनिकों का दल कमांडिंग अफसर कर्नल संतोष बाबू की अगुवाई में चीनी कैंप में गया था. भारतीय दल कोई हथियार लेकर नहीं गया था.

भारतीय दल चीनी सैनिकों के पीछे हटने को लेकर बनी सहमति पर बात करने गई थी, लेकिन, वहां भारतीय सैनिकों को चीन का धोखा मिला. बॉल्डर, पत्थर, कंटीले तारों और कील लगे डंडों से चीनी सैनिकों ने हमला बोला. इस हमले के कारण कमांडिग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू और दो जवान मौके पर शहीद हो गए, जबकि कई जवान घायल हो गए.

झड़प जिस प्वाइंट पर हुई उसके ठीक नीचे उफनती हुई श्योक नदी बहती है. कई सैनिकों के नदी में बहने की खबर है. कई जख्मी सैनिक इलाके में शून्य से कम तापमान की वजह से अपने जख्मों से उबर नहीं पाए और शहीद हो गए. भारत की तरफ से जारी आधिकारिक बयान के मुताबिक, 20 जवान शहीद हुए हैं.

Tags
Back to top button