ठोस एवं अन्य अपशिष्टों का निष्पादन नियमानुसार किया जाए: न्यायमूर्ति मिश्रा

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के निर्देश पर राज्य स्तरीय समिति की बैठक आयोजित

रायपुर।

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एन.जी.टी.) नई दिल्ली के निर्देश पर नगरीय ठोस अपशिष्ट नियम, 2016 के क्रियांवयन के लिए बनी राज्य स्तरीय समिति की बैठक आज नवीन विश्राम गृह में आयोजित हुई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त)धीरेन्द्र मिश्रा ने कहा कि नगरीय ठोस अपशिष्ट नियम, 2016 नियम के पालन की जिम्मेदारी जिन विभागों को दी गई है वे इसे प्रतिबद्धता के साथ पूर्ण करें।

उन्होंने सभी संबंधित विभागों को इन नियमों के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए नोडल ऑफिसर नियुक्त करने कहा। बैठक में ठोस अपशिष्ठ निष्पादन के लिए राज्य में किए जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा की गई।

बैठक में न्यायमूर्ति धीरेन्द्र मिश्रा ने कहा कि उन्होंने नगरीय ठोस अपशिष्ट के साथ-साथ प्लास्टिक अपशिष्ट, जीव चिकित्सा अपशिष्ट, निर्माण एवं विघ्वंस अपशिष्टों का नियमानुसार निष्पादन किया जाए। उन्होंने कहा कि यदि विभिन्न अपशिष्टों का सुनिश्चित तरीके से निष्पादन नहीं किया जाएगा तो वे वायु एवं जल को प्रदूषित करेंगे एवं मनुष्य के स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ेगा। उन्होंने एन.जी.टी. की आगामी बैठक में रेलवे, एनटीपीसी, एसईसीएल तथा बड़ी कालोनियों का निर्माण करने वाली संस्था को भी शामिल करने के निर्देश दिए।

बैठक में मण्डल के सदस्य सचिव आर.पी तिवारी, नगरीय प्रशासन विभाग के श्री सौमिल रंजन चौबे ने अपना प्रस्तुतीकरण दिया। तिवारी ने नगरीय ठोस अपशिष्ट नियम के पालन पर एन.जी.टी. नई दिल्ली द्वारा पारित निर्णय के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मण्डल की अध्यक्ष संगीता पी, आवास एवं पर्यावरण विभाग की विशेष सचिव, अलरमेलमंगई डी, केन्द्रीय प्रदूषण नियत्रंण भोपाल के प्रतिनिधि डॉ. आर.पी. मिश्रा और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button