महाराष्ट्र में सियासी घमासान के बीच उद्धव ने फोन पर की सोनिया से बात

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सियासी घमासान के बीच शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने फोन पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात की है। समाचार एजेंसी एएनआई ने यह जानकारी दी।

समझा जाता है कि उद्धव ने सोनिया से महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए उनका समर्थन मांगा है। महाराष्ट्र में 288 सदस्यीय सदन में भाजपा के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना के पास राज्य में सरकार बनाने की दावेदारी करने के लिए सोमवार (11 नवंबर) को शाम साढ़े सात बजे तक का समय है।

इससे पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सोमवार (11 नवंबर) को यहां राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात की और समझा जाता है कि ठाकरे ने पवार से महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए उनकी पार्टी के समर्थन का अनुरोध किया। ठाकरे और पवार ने एक उपनगरीय होटल में बातचीत की। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शिवसेना को सरकार गठन के लिए दावा पेश करने की खातिर शाम साढ़े सात बजे तक का समय दिया है।

सूत्रों ने बताया कि 45 मिनट की इस बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने कृषि मुद्दे समेत ‘न्यूनतम साझा कार्यक्रम’ पर भी चर्चा की जो सरकार बनने की स्थिति में उनकी सरकार के लिए दिशानिर्देश का काम करेगा। राकांपा ने अबतक अपने इस फैसले की घोषणा नहीं की है कि वह शिवसेना का समर्थन करेगी या नहीं। उसने कहा है कि वह अपने सहयोगी कांग्रेस द्वारा उठाये जाने वाले कदम के आधार पर निर्णय लेगी।

महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा में शिवसेना के पास 56 सीटें हैं जबकि राकांपा और कांग्रेस के पास क्रमश: 54 और 44 सीटें हैं। राज्य में सरकार बनाने को इच्छुक किसी भी दल या गठबंधन को विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए कम से कम 145 विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी।

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शिवसेना को सरकार गठन के लिए दावा पेश करने की खातिर सोमवार (11 नवंबर) शाम साढ़े सात बजे तक का समय दिया है। कोश्यारी ने रविवार को शिवसेना को सरकार गठन करने का दावा पेश करने के लिए अपनी इच्छा और सामर्थ्य का संकेत देने के लिए बुलाया था। उससे पहले 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी भाजपा ने राज्य में सरकार गठन के लिए दावा पेश नहीं करने का फैसला किया था।

Back to top button