छत्तीसगढ़

त्यौहार और पर्व में ध्वनि प्रदूषण पर विशेष ध्यान देने आयुक्त ने जारी किया निर्देश

रायपुर – नगर निगम रायपुर के आयुक्त रजत बंसल ने प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी राज्य शासन के नगरीय प्रषासन एवं विकास विभाग संचालनालय के निर्देषों के पालन के संबंध में नगर निगम के सभी जोन कमिष्नरो को पर्वो में अस्थायी स्वागत द्वार, पंडाल ध्वनि प्रदूषण के संबंध में आवष्यक निर्देष दे दिये है। आयुक्त ने नगर निगम रायपुर के सभी जोन कमिष्नरो को राज्य शासन के निर्देष का पालन करने के लिए निर्देशित किया है कि आगामी पर्व जन्माष्टमी, गणेषोत्सव, दुर्गोत्सव आदि में प्रयुक्त होने वाले ध्वनि यंत्रो की आवाज कम रखी जाये एवं रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे के मध्य लाउडस्पीकर तथा डीजे का उपयोग पूरी तरह प्रतिबंधित किया जाये। यदि तेज आवाज के विरूद्ध षिकायत प्राप्त हो तो संबंधित पर छत्तीसगढ नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 की धारा 342 के तहत कार्यवाही की जाये एवं विद्युत विभाग को उस स्थान पर बिजली काटने की अनुषंसा की जाये। सार्वजनिक मार्ग/स्थान पर पंडाल/स्वागत द्वार निर्माण हेतु आवेदन प्राप्त हो, तो इस पर विवेकपूर्ण ढंग से विचार किया जाये। प्रस्तावित स्थल का निरीक्षण कर यातायात का सुगम बहाव एवं जनसामान्य को संभावित असुविधा को ध्यान में रखते हुए पंडाल/स्वागत द्वार की अनुमति देने पर उचित निर्णय लिया जाये। यदि मार्ग/यातायात बहाव को अवरूद्ध करते हुए पंडाल/स्वागत द्वार का निर्माण कोई करता है, तो तुरंत उसे उखाडने की कार्यवाही नियमानुसार करने के निर्देश दिए है. आयुक्त ने समय-समय पर कार्यवाही कर पालन प्रतिवेदन देने के आदेष सभी जोन कमिष्नरों को दिये है ताकि राज्य शासन के नगरीय प्रषासन एवं विकास संचालनालय को निर्देषों का पालन सुनिष्चित करवाने किये गये कार्यो से समय -समय पर अवगत करवाया जा सके।

Tags
Back to top button