रात में न खाए खट्टी चीजें, हो सकती है ये सारी समस्यां

वैसे तो रात के खाने को लेकर कई तरह के बातें जुड़ी हुए है लेकिन इनमें से कुछ तो सिर्फ सुनी-सुनाई बातें होती है तो कुछ के पीछे मजबूत उदहारण छिपे हुए होत है। जैसे रात को खट्टे खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

इसका बड़ा कारण ये है कि खट्टे फलों की प्रकृति अम्‍लीय होती है। रात को सोने से पहले खट्टे फल खाने से एसिडिटी हो सकती है। माना जाता है कि रात को खट्टे पदार्थ खाने से खांसी और ठंड की समस्‍या बढ़ जाती है।


वजन कम करने में कठिनाइयां

कई विशेषज्ञों का मानना है कि रात को खट्टे खाद्य पदार्थ खाने से वाटर रिटेंशन की समस्‍या हो सकती है जो आपके वेटलॉस में रोड़ा बन सकता है। रात को कड़ी, रसम, दही और रायता जैसी नहीं खानी चाहिए।

आयुर्वेद में क्‍या कहता है?

आयुर्वेद में भी समय के अनुरुप खाद्य पदार्थ खाने के बारे में सलाह दी है, आयुर्वेद के अनुसार रात को खाने में खट्टे खाद्य पदार्थ नहीं खाने चाहिए आयुर्वेद में तीन मूल दोषों के बारे में बात कही है जैसे वात, पित्त और कफ, और अच्‍छी सेहत के लिए इन तीनों दोषों के बीच संतुलन होना आवश्यक है।

विशेषज्ञों का कहना है रात को खट्ट् पदार्थ खाने से वात दोष बढ़ सकता है। देर शाम जैसे 11 बजे के आसपास हवा सिर के ऊपर होती है। इस दौरान खट्टा भोजन खाने से वात दोष की समस्‍या हो सकती है।

वात दोष समस्‍या

वात दोष होने से सर्दी और खांसी बढ़ा सकता है और नाक के नली में गाढ़ा बलगम बन सकता है।

रात को सोते समय समस्‍या

रात में खट्टी चीजों के खाने से पेट में अम्ल की मात्रा बढ़ने लगती है जो शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों को अवशोषित नहीं होने देता है। अगर आप में भी खट्टी चीजें खाने की आदत है तो आज से ही इस आदत को छोड़ दें।

वैसे स्‍वास्‍थय विशेषज्ञों का कहना है कि रात को ठीक सोने से पहले किसी भी तरह का खाद्य पदार्थ नहीं खाना चाहिए। क्‍योंकि इस दौरान शरीर से निकलने वाली ऊर्जा की वजह से आपको रात को सोने में बैचेनी हो सकती है।

1
Back to top button