छत्तीसगढ़

विस अध्यक्ष डॉ. महंत ने प्रदेशवासियों को हरेली पर्व की दी बधाई शुभकानाएं

हरेली पर्व पर छत्तीशगढ में कुटकी दाई की आराधना जाती है जो फसलों की देवी है, पूजा अर्चना के दौरान पूजा का ध्यान केंद्रित करती है क्योंकि किसान उनकी मदद से ही यह सुनिश्चित होता है कि उनके पास भरपूर फसल होगी।

रायपुर 19 जुलाई 2020 छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने प्रदेशवासियों को पारंपरिक पर्व हरेली पर बधाई शुभकानाएं देते हुए कहा कि, हरेली पर्व पर छत्तीशगढ में कुटकी दाई की आराधना जाती है जो फसलों की देवी है, पूजा अर्चना के दौरान पूजा का ध्यान केंद्रित करती है क्योंकि किसान उनकी मदद से ही यह सुनिश्चित होता है कि उनके पास भरपूर फसल होगी।

विस् अध्यक्ष डॉ महंत ने कहा

विस् अध्यक्ष डॉ महंत ने कहा कि, हरेली की परंपरा हरेली राज्य में कई ग्रामीण कृषक समुदायों द्वारा मनाया जाने वाला एक कृषि त्यौहार है, इस लोकप्रिय और प्रसिद्ध त्यौहार का नाम हिंदी शब्द “हरियाली” से आया है जिसका अर्थ है हरियाली। राज्य के प्रमुख जातीय समूहों में से एक गोंडी लोगों के बीच हरेली उत्सव का विशेष महत्व है, छत्तीसगढ़ के किसान अपने उपकरणों की पूजा करते हैं। किसान अच्छी फसल के लिए प्रार्थना करते हैं और इस त्यौहार का मूल विषय प्रकृति केंद्रित है।

डॉ महंत ने कहा कि, हरेली उत्सव के दौरान, किसान अपने संबंधित क्षेत्रों में भेलवा वृक्ष की शाखाएं लगाते हैं, अपने घरों के प्रवेश द्वार पर नीम के पेड़ की शाखाएँ भी लगायी जाती है। नीम में औषधीय गुण होते हैं जो रोगों के साथ-साथ कीड़ों को भी रोकते हैं। छत्तीसगढ़ के हरेली उत्सव को ‘गेडी’ खेल से भी चिह्नित किया जाता है, एक ऐसा खेल जहाँ छोटे बच्चे बांस के डंडे का इस्तेमाल स्टिल्ट के रूप में करते हैं और खेतों में विचरण करते हैं।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने कहा कि मैं हरेली माता कुटकी दाई से प्रार्थना करता हूं कि प्रदेश में किसानों को अच्छी फसल प्राप्त हो,आर्थिक उन्नति हो

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button