जज से बोले लालू- आपका बड़ा नाम हुआ है सर, रहम कीजिए, होली मनानी है

अदालत में लालू यादव ने जज के सामने खुलकर अपनी बातें रखीं। इस दौरान जज ने लालू को बताया कि आपसे गलती ये हुई है कि आप अच्छे अफसर नहीं रखते थे, इस पर लालू यादव ने कहा कि सिस्टम बहुत गड़बड़ है सर।

चारा घोटाले में दोषी करार दिये गये लालू यादव होली बड़े धूम-धड़ाके के साथ मनाते थे। रंगों के इस त्योहार के दौरान पटना स्थित लालू के आवास में उनका गंवई अंदाज लोगों को बेहद पसंद आता था। इस बार होली में मात्र एक पखवारे का वक्त रह गया है और लालू यादव रांची जेल में बंद है।

जेल में मकर संक्रांति का चूड़ा-तिलकुट खा चुके लालू यादव को अब होली की चिंता सता रही है। लालू को डर है कि कहीं इस पर्व को भी सलाखों के पीछे ना मनाना पड़ जाए। लालू चाहते हैं कि उनके ऊपर चल रहे केसों का निपटारा जल्द हो और वह परिवार के साथ होली मनाएं।

इस बावत गुरुवार (15 फरवरी) को उन्होंने सीबीआई जज से दरख्वास्त की और कोर्ट से जल्द फैसले का अनुरोध किया। कोर्ट में मौजूद वकीलों के मुताबिक दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू ने सीबीआई जज से गुहार लगाई और कहा कि सर होली से पहले सुनवाई कर दीजिए, कम से कम हमलोग होली तो मना पाएंगे। जज शिवपाल सिंह ने लालू को आश्वासन दिया किय जल्द ही उनके केस की सुनवाई होगी।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

अदालत में लालू यादव ने जज के सामने खुलकर अपनी बातें रखीं। इस दौरान जज ने लालू को बताया कि आपसे गलती ये हुई है कि आप अच्छे अफसर नहीं रखते थे, इस पर लालू यादव ने कहा कि सिस्टम बहुत गड़बड़ है सर।

तो जज ने बताया कि आप चाहेंगे तभी सिस्टम ठीक होगा। लालू यादव ने कहा कि चाईबासा कोषागार से संबंधित अवैध निकासी के मामले में हड़बड़ी में फैसला हुआ है और देवघर मामले में आपने जो जजमेंट दिया है उसमें आपका बहुत नाम हुआ है।

इस पर जज महोदय ने कहा कि उनका नाम नहीं हुआ है, लालू प्रसाद की वजह से नाम हुआ है। इस पर लालू यादव बोले, “तबो त रहम करिए सर।” बता दें कि चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू यादव को 5 साल की कैद की सजा सुनाई गई है।

जबकि देवघर कोषागार से अवैध धन की निकासी के मामले में लालू यादव को साढ़े तीन की कैद की सजा सुनाई गई है। इसी मामले में लालू यादव इस वक्त जेल में हैं।

new jindal advt tree advt
Back to top button