किसान क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए विशेष शिविर प्रारंभ

राजनांदगांव : जिले के किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड बनाये जाने के लिए 20 अप्रैल से 10 मई 2018 तक विशेष शिविर अभियान के रूप चलाया जा रहा है। जिले के 2 लाख 83 हजार 015 कृषकों में से अब तक एक लाख 73 हजार कृषकों का किसान क्रेडिट कार्ड तैयार किया जा चुका है। शासन द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत सहकारी समितियों के माध्यम से शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर फसल ऋण प्रदाय किया जाता है। ऐसे कृषक परिवार जो सहकारी समिति के सदस्य नहीं है, जिन्होंने के.सी.सी. नहीं लिया है, उन्हें सहकारी समिति से जोड़कर सदस्य बनाने की कार्रवाई की जायेगी।

उप संचालक कृषि अश्वनी बंजारा ने बताया कि शत प्रतिशत कृषकों के किसान क्रेडिट कार्ड तैयार करने के लिए विभाग के मैदानी अमले द्वारा प्रत्येक ग्राम के बिना किसान क्रेडिट कार्ड वाले कृषकों का चयन किया जायेगा। ऐस कृषकों से व्यक्तिगत भेट कर कार्ड से होने वाले लाभ का प्रचार-प्रसार करते हुए उन्हें संबंधित बैंक, समिति से किसान क्रेडिट कार्ड तैयार कराने प्रेरित किया जायेगा साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखा जायेगा कि इस अभियान में कोई भी कृषक कार्ड तैयार कराने से वंचित न रहे।

किसान क्रेडिट कार्ड जारी कराने के लिए कृषक को सहकारी समिति का सदस्य बनाया जायेगा। किसान क्रेडिट कार्ड तैयार करने के लिए किसान के पास न्यूनतम 40 डिसमिल भूमि होना अनिवार्य है। इसके लिए आवश्यक दस्तावेज बी-1, एवं पांच साल की नकल, दो पासपोर्ट साईज फोटो, आधार कार्ड, पैन कार्ड की छायाप्रति, किसान किताब की छायाप्रति, सहकारी बैंक में संचालित सेविंग खाता पासबुक की छायाप्रति, बैंकों का अनापत्ति प्रमाण पत्र, कम से कम एक शेयर की राशि 10 रूपए एवं प्रवेश शुल्क 5 रूपए जमा करना होगा। सहकारी बैंकों में बचत खाता नो फ्रिल प्रोड्क्ट के अंतर्गत खोला जायेगा।

इसमें कृषक से कोई राशि नहीं ली जायेगी। शून्य बैलेंस पर खाता खोला जायेगा। सहकारी बैंकों द्वारा नो ड्यूस प्रमाण पत्र हेतु कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा। समितिवार किसान क्रेडिट कार्ड की सूची जिला सहकारी बैंक द्वारा समस्त समिति प्रबंधक को भेजकर समिति स्तर पर ग्रामवार या पंचायतवार तैयार कर एक प्रति ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

Back to top button