बिज़नेस

बायोजेट फ्यूल से विमान उड़ाने वाली स्पाइसजेट बनेगी पहली कपंनी,तैयारी पूरी

कमर्शियल एयरलाइन द्वारा सबसे पहले 24 फरवरी, 2008 को बायोजेट फ्यूल का इस्तेमाल किया गया

नई दिल्ली। भारत में बायोजेट फ्यूल से विमान उड़ाने वाली स्पाइसजेट पहली कपंनी बनेगी। इसको लेकर कंपनी ने तैयारी पूरी कर ली। कंपनी जल्द इस बायोजेट डीजल की फ्लाइट का डेमो देगी।

आपको बता दें कि किसी कमर्शियल एयरलाइन द्वारा सबसे पहले 24 फरवरी, 2008 को बायोजेट फ्यूल का इस्तेमाल किया गया था। वर्जिन अटलांटिक की फ्लाइट ने इस दिन बायो-जेट फ्यूल की मदद से लंदन के हीथ्रो से एम्सटर्डम के बीच उड़ान भरी थी।

इस फ्लाइट के लिए इस्तेमाल होने वाले बायो-जेट फ्यूल को ब्राजील के कोकोनट्स एवं बाबास्सु नट्स के मिक्सचर से बनाया गया था। बायो-जेट के इस्तेमाल से लंबी दूरी तय करने वाले पहला विमान क्वांटस प्लेन था।

सरसों के इस्तेमाल इस बायो-जेट फ्यूल का निर्माण किया गया था। 30 जनवरी, 2018 को यह फ्लाइट आस्ट्रेलिया से अमेरिका के बीच उड़ान भरी थी। लेकिन अभी इसको लेकर सरकार की ओर से मंजूरी का इंतजार है।

स्पाइसजेट भारत में बायोजेट फ्यूल से विमान उड़ाने वाली पहली एयरलाइन कंपनी बन सकती है। कंपनी जल्द ही इस फ्लाइट का डेमो देने जा रही है। इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है। सिर्फ सरकार की तरफ से आधिकारिक मंजूरी बाकी है।

Back to top button