श्रीधरन पिल्लई केरल बीजेपी के नए अध्यक्ष नियुक्त

नई दिल्ली : दो महीने के इंतजार के बाद अंत में केरल बीजेपी को नया अध्यक्ष मिल गया है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पीएस श्रीधरन पिल्लई को केरल में पार्टी प्रमुख नियुक्त किया है. उन्होंने कुम्मनम राजशेखरन का स्थान लिया है, जिन्हें हाल ही में मिजोरम का राज्यपाल नियुक्त किया गया है. त्रिपुरा में पार्टी की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले सुनील देवधर को राष्ट्रीय सचिव बनाकर तरक्की दी है. जबकि पार्टी सांसद वी. मुरलीधरन को आंध्र प्रदेश का राज्य प्रभारी नियुक्त किया गया है.

श्रीधरन पिल्लई को उनके मित्र और शत्रु बीजेपी की केरल इकाई का एक सौम्य चेहरा मानते हैं. पिल्लई ने अपनी नियुक्ति पर कहा कि वह इस पद के लिए कभी भी उत्सुक नहीं थे.

पिल्लई ने तिरुवनंतपुरम में मीडिया से कहा, ‘मैं गर्व के साथ कहूंगा कि जब बीजेपी का गठन हुआ था, तब से मैं यहां हूं और मैंने केरल में अपनी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में कई चुनाव लड़े हैं. वर्ष 2003-06 के दौरान भी यह पद मेरे पास था और उस समय में हमने लोकसभा की दो सीटों पर जीत दर्ज की थी.’ उन्होंने कहा कि इस बार यह उनके लिए चुनौती और अवसर दोनों है.

पिल्लई ने कहा, ‘केरल में चुनावी राजनीति में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है और इसलिए यह मेरे लिए एक बड़ी चुनौती है. मुझे आशा है कि केरल के समाज में सभी वर्गो में मेरे संपर्क के जरिए मैं अच्छा प्रदर्शन कर पाऊंगा.’

पार्टी के एक बयान के मुताबिक सुनील देवधर त्रिपुरा में पार्टी के प्रभारी थे. उन्हें आंध्र प्रदेश का सह प्रभारी बनाया गया है जहां अगले साल लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभा चुनाव होने हैं.

उनके त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के साथ कथित रूप से तनावग्रस्त संबंध हैं और ऐसी अटकले हैं कि इसी वजह से पार्टी नेतृत्व उन्हें त्रिपुरा से हटाकर नई जिम्मेदारी सौंप रहा है. देब के करीबी सूत्रों ने उन पर मुख्यमंत्री के खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है. बयान में बताया गया है कि पार्टी ने अनुसूचित जाति मोर्चे के पूर्व अध्यक्ष दुष्यंत कुमार गौतम को संगठन में उपाध्यक्ष नियुक्त किया है. वाई सत्य कुमार को राष्ट्रीय सचिव बनाया गया है.

Back to top button