छत्तीसगढ़

साइबर ठगी के शिकार हुए SSB के DIG

-चंद मिनटों में खाते से निकाले 1 लाख 60 हजार

भिलाई।

साइबर ठगों ने ठगी का एक और नया तरीका इजाद कर लिया है। सिम स्वैप कर क्लोनिंग के जरिए चंद मिनटों में खाते का पैसा ट्रांसफर कर ले रहे हैं।

ट्विनसिटी में पहली बार ऐसे दो मामले सामने आए हैं, जिसमें स्वैप से डुप्लीकेट सिम बनाकर ठगी की गई है। सशत्र सीमा बल के डीआइजी भी इसके शिकार हुए हैं। डीआइजी वी. विक्रमन के बचत खाता से 1 लाख 60 हजार रुपए साइबर ठगों ने पार कर दिए।

एएसपी शहर विजय पांडेय ने बताया कि सिम स्वैप के दो मामले ट्विनसिटी में दर्ज हुए हैं। इस मामले की शिकायत भिलाई नगर थाना में की गई है।

वहीं मोहन नगर थाना में भी एक शिकायत मिली है। जिसमें ठग ने स्टेट बैंक के एक खाताधारक के खाते से 15 हजार रुपए पार कर दिए हैं। दोनों मामले में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा 66 आइटी एक्ट के तहत जुर्म दर्ज किया है।

72 घंटे में शिकायत पर बैंक लौटाता है पैसे

एएसपी ने बताया कि सिम क्लोनिंग के मामले में ठगी का शिकार हुआ व्यक्ति यदि 72 घंटे में शिकायत करता है तो बैंक पूरा पैसा वापस कर देती है।

यदि ओटीपी नम्बर बताया गया तब बैंक मदद नहीं करती। इस लिए ऐसे मामले में तुरंत संबंधित थाना में रिपोर्ट दर्ज कराएं। साइबर ठगी से निपटने के लिए पुलिस अधिकारी को प्रशिक्षण के लिए जयपुर भेजा गया है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button