राज्य सरकार ने लिया किसानों की कर्जमाफी का ऐतिहासिक फैसला

राज शार्दूल:

कोंडागांव: राज्य शासन किसानों सहित सभी वर्गों के हितों का ध्यान रखेगी। राज्य शासन ने किसानों की कर्जमाफी और 2500 रूपए में धान खरीदी का ऐतिहासिक फैसला लिया है। किसानों की समृद्धि और खेती के विकास के लिए राज्य सरकार द्वारा यह पहला बड़ा कदम है।

दिनांक 02 जनवरी को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोण्डागांव मुख्यालय के विकासनगर स्टेडियम ग्राउण्ड में आयोजित अभिनंदन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उक्ताशय के विचार प्रगट किए।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के तत्काल बाद केबिनेट की बैठक में दस दिन के बजाये एक घंटे में किसानों की ऋण माफी का फैसला किया है।

छत्तीसगढ़ 2500 रूपए प्रति क्विंटल की दर से धान की खरीदी करने वाला देश का पहला राज्य

इसके अलावा छत्तीसगढ़ 2500 रूपए प्रति क्विंटल की दर से धान की खरीदी करने वाला देश का पहला राज्य होगा। इसके साथ ही किसानों से 2500 रूपए प्रति क्विंटल के मूल्य पर धान खरीदी के लिए राशि का प्रावधान आगामी बजट में किया जाएगा।

मुख्यमंत्री बघेल ने आगे कहा कि प्रदेश के गांवों को विकसित कर यहां रहने वाले गांव-गरीब-मजदूर-किसान एवं कम आमदनी वाले लोगों की आय में बढ़ोत्तरी करने के हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

नदी और नरवा के पानी को खेतों तक पहुंचाने की जरूरत

उन्होंने नदी और नरवा के पानी को खेतों तक पहुंचाने की जरूरत बताते हुए कहा कि खलिहानों और गौठानों को भी सुविधापूर्वक बनाना होगा। गांवों में गोबर की जैविक खाद बनाने के साथ ही गोबर गैस बनाकर घर-घर तक पहुंचाना होगा।

इसके साथ ही गांव के विकास करने के क्रम में पशुओं के नस्ल सुधार के साथ देशी नस्ल के पशुओं को बढ़ावा देना है, जिससे प्रदेश में दूध के उत्पादन में बढ़ोत्तरी हो सके। क्योंकि किसानों के प्रति हमारी बड़ी जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा कि किसानों का यह अधिकार है कि उन्हें फसल का उचित मूल्य मिले। किसानों के पास बचत नहीं हो पा रही थी, इसलिए उनकी खेती पिछड़ रही थी। उपज का अच्छा मूल्य मिलने से किसानों के पास अपनी खेती में निवेश करने के लिए पूंजी आएगी और खेती की उन्नति होगी।

किसानों की खुशहाली से बाजार भी समृद्ध

बघेल ने कहा कि किसानों की खुशहाली से बाजार भी समृद्ध होगा और सभी वर्गों की उन्नति के लिए बेहतर परिस्थितियां तैयार होंगी। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने बताया कि टाटा इस्पात संयंत्र के लिए बस्तर जिले के लोहडींगुड़ा क्षेत्र में किसानों की अधिग्रहित 4200 एकड़ भूमि लौटाने का निर्णय राज्य शासन द्वारा लिया गया है।

इसके साथ ही चाहे बिजली के आम उपभोक्ताओं के लिए हों, चाहे वे कर्मचारी हों या पुलिस के कर्मचारी अथवा पत्रकार साथी हों, सभी वर्गों के लिए किए गए वायदे पूरे किए जाएंगे।

कवासी लखमा ने सभा को संबोधित करते हुए जनता का आभार व्यक्त किया

कार्यक्रम में वाणिज्यकर (आबकारी) एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने सभा को संबोधित करते हुए जनता का आभार व्यक्त किया। इसके पूर्व अभिनंदन कार्यक्रम क्षेत्र के विधायक मोहन मरकाम द्वारा कोण्डागांव जिले की विभिन्न समस्याओं एवं मांगो के प्रति मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए आशा व्यक्त किया कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में कोण्डागांव जिले का नए सिरे से विकास होगा।

कार्यक्रम के दौरान माननीय मुख्यमंत्री ने कोण्डागांव जिले में 5 करोड़ 70 लाख के निर्माण कार्यो का भूमिपूजन किया। इनमें शहरी डामरीकरण (2 करोड़ 77 लाख), मुक्तिधाम निर्माण (1 करोड़ 38 लाख 50 हजार), पंडित दीनदयाल सर्व समाज मांगलिक भवन निर्माण (1 करोड़ 44 लाख) के निर्माण कार्य शामिल है।

इस अवसर पर विधायक नारायणपुर चंदन कश्यप, प्रदेश महिला कंाग्रेस अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार राजेश तिवारी, अध्यक्ष जिला पंचायत देवचंद मातलाम, उपाध्यक्ष रवि घोष, स्थानीय जनप्रतिनिधि,

ग्राम पंचायतों के पदाधिकारी, कमिश्नर धनंजय देवांगन, आईजी बस्तर रेंज विवेकानंद सिन्हा, जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम, पुलिस अधीक्षक अरविन्द कुजूर सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

1
Back to top button