दिल्लीराजस्थानराज्य

दिल्ली के लोग जयपुर में क्यों ढूंढ रहे ठिकाना?

जयपुर: दिल्ली की हवा दिवाली से पहले ही जहरीली हो रही है। आंकड़ों के मुताबिक वायु प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। खतरे की घंटी को भांपते हुए दिल्ली और एनसीआर के लोगों का ठिकाना इन दिनों जयपुर बन रहा है। रिपोर्ट के अनुसार जयपुर में अचानक दिल्ली से जाने वाले लोगों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है।

कुछ दिनों पहले सुप्रीम कोर्ट ने पटाखे बेचने पर इसलिए प्रतिबंध लगाया था जिससे दिल्ली की आबोहवा दिवाली में प्रदूषित न हो।

मगर दिल्ली में रहने वाले लोगों के लिए पिछली दिवाली इतनी घातकी थी कि यहां के अधिकतर लोग जयपुर में रहने वाले सगे संबंधियों के घर दिवाली का जश्न मनाने पहुंच रहे हैं। वहीं जिनके कोई परिचित वहां नहीं हैं तो वह दिवाली टूर पर निकल चुके हैं।

आपको बता दें कि साल 2016 में दिल्ली के आसमान में दिवाली के दूसरे दिन प्रदूषण की परत चढ़ी दिखी थी। धुंध की वजह से लोगों का सांस लेना मुश्किल हो गया था। दिल्ली गैस चेंबर में तब्दील हो चुका था। इस साल दिल्ली गैस चेंबर बने इससे पहले ही लोग वहां से निकल रहे हैं।

वकील निर्मल सिंह शेखावत ने बताया कि वह अपने पैतृक गांव जयपुर कई दशक बाद पहुंचे। उन्होंने बताया कि मैं 15 वर्षों से दिल्ली में काम कर रहा हूं। मैं सारे त्योहार दिल्ली में ही मनाता था। मगर पिछले साल यहां दिवाली के अगले दिन जिस तरह का खतरनाक मंजर देखा उसके बाद दिल्ली में दिवाली मनाने का मन नहीं किया।

इतना ही नहीं अतर्राष्ट्रीय कंपनी के कार्यकर्ता भी इस बार दिवाली में दिल्ली से दूरी बना रहे हैं। लोग दिवाली की छुट्टीयों में ऐसी जगह जा रहे हैं जहां प्रदूषण कम है। बाल अधिकार के लिए काम करने वाली ही ऐसी एक विदेशी संस्था के कर्मचारी भी जयपुर केवल इसलिए जा रहे हैं क्योंकि वह दिल्ली के प्रदूषण से बच सकें।

जयपुर में एक होटल के सेल्स मैनेजर पीयूष शर्मा ने कहा कि इस बार होटल में बुकिंग खूब हो रही है। लोग अपनी फैमिली के साथ आ रहे हैं। इस बार दिवाली का यह मौसम एक तरह से होटल इंडस्ट्री के लिए नया सीजन बनकर आया है।
अमूमन ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। इतना ही नहीं राजस्थान परिवहन की बसें भी दिल्ली से राजस्थान फुल चल रही हैं। इसी तरह से दिल्ली से राजस्थान जाने वाली फ्लाइट भी भरी हुई चल रही हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
दिल्ली
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.