अभूतपूर्व भारत बंद, देश में सामाजिक क्रांति का आगाज – अमित

अंबेडकर चौक पहुँच कर दिया भारत बंद का समर्थन

रायपुर : मरवाही विधायक अमित जोगी ने आज राजधानी स्थित आंबेडकर चौक पहुंचे और ऐतिहासिक भारत बंद का समर्थन किया। इस दौरान हजारों की संख्या में उपस्थित अनुसूचित जाति/जनजाति समुदाय को संबोधित करते हुए कहा सुप्रीम कोर्ट के द्वारा 20 मार्च को दिए गए निर्णय के विरोध में आज अभूतपूर्व भारत बंद हुआ हैं, यह सामाजिक क्रांति का आगाज हैं जिसका श्रेय कोई राजनैतिक दल को नहीं बल्कि समाज को जाता हैं।

अमित ने कहा संवैधानिक अधिकारों रक्षा करने का काम संसद का होता हैं परंतु इस संबंध में संसद के द्वारा कोई रूचि नहीं दिखाई. आजादी 70 साल के बाद पहली बार वंचित वर्ग आज अपने हक और अधिकार के लिए सड़क पर आ गए हैं। संसद को वंचित वर्ग के लिए कड़े कानून बनाए। सरकार दबाव में आकर पुर्नविचार याचिका लगाने की खानापूर्ति कर रही हैं जिसे वंचित वर्ग अच्छी तरह समझता हैं।

अमित जोगी ने कहा जब इतने कड़े कानून होने के बाद बीते 4 वर्षो में अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार 380% वृध्दि हुई हैं तब इस कानून में शिथिलिकरण होने के बाद स्थिति भयावह होगी। अकेले छत्तीसगढ़ में अनूसूचित जाति/जनजाति अत्याचार चरमसीमा पर हैं. आदिवासियों बालिकाओं के झलियामारी कांड, मीना खलको कांड, आदिवासी बालको का इनकाउटंर, अनसूचित जाति महिला को टोनही कहकर आंख फोड़ना, पुलिस अभिरक्षा में अनुसचित जाति के युवक की हत्या ऐसे कई उदाहरण हैं। इस स्थिति में कानून को शिथिलिकरण करने के बजाय और भी अधिक सशक्त करने की आवश्यकता हैं।

उन्होंने कहा छत्तीसगढ़ में भारत बंद का समर्थन चेम्बर आॅफ काॅमर्स के द्वारा समर्थन नहीं देने के बाद भी अभूतपूर्व बंद होना एक इतिहास हैं और छत्तीसगढ़ के छत्तीस समाज की सामाजिक एकता की मिशाल हैं। छत्तीसगढ़ में अगली सरकार जनता कांग्रेस की सरकार बनते ही महिलाओं, बच्चों, अनूसूचित जाति/जनजाति के संबंध में कड़े कानून बनाए जाएंगे और छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता के साथ अन्याय ने हो इसकी पैनी नजर रखी जाएगी।

Back to top button