राष्ट्रीय

सीआरपीएफ की बहादुरी की गाथाएं इतिहास का जरूरी हिस्सा : अमित शाह

वर्ष 2022 तक इस प्रोजेक्ट को पूरा करने का लक्ष्य

नई दिल्ली:आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सीजीओ कॉम्प्लेक्स में स्थित केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) मुख्यालय का शिलान्यास किया. कुल 277 करोड़ की लागत से निर्माण को वर्ष 2022 तक इस प्रोजेक्ट को पूरा करने का लक्ष्य है.

इस अवसर पर अमित शाह ने कहा, ‘गृह मंत्री बनने के बाद मैं सीआरपीएफ को करीबी से देख रहा हूं. सीआरपीएफ दुनिया का सबसे बड़ा सशस्त्र बल तो है ही, साथ ही दुनिया का सबसे बहादुर सशस्त्र बल भी है. इसके इतिहास को खंगाले तो इसकी कई गाथाएं बताई जा सकती हैं.’ गृहमंत्री ने कहा कि सीआरपीएफ की बहादुरी की गाथाएं इतिहास का जरूरी हिस्सा हैं.

अमित शाह ने कहा, ’21 अक्टूबर 1959 को सीआरपीएफ के सिर्फ 10 जांबाजों ने ऑटोमेटिक हथियारों से लैस चीन की टुकड़ी का सामना किया और अपनी आहुति दी। इसलिए 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है.’

अमित शाह ने कहा, ‘सभी सुविधाओं से लैस मुख्यालय जब CRPF को मिलेगा, तो मुझे पूरा यकीन है कि आपकी क्षमता, आपकी सुसज्जता और आपकी Alertness तीनों में ढेर सारी बढ़ोतरी होगी। जो आपको ड्यूटी परफॉर्म करने में मददगार साबित होगी.’

Tags
Back to top button