राष्ट्रीय

PNB घोटाला: ईमेल-खत भेज रहा नीरव मोदी 7 दिन बाद भी पकड़ से बाहर, आज SC में सुनवाई

नीरव मोदी की फर्म से जुड़े कर्मचारियों को मंगलवार को एक ई-मेल मिला, इसमें कर्मचारियों से दफ्तर न आने को कहा गया है

PNB घोटाला: ईमेल-खत भेज रहा नीरव मोदी 7 दिन बाद भी पकड़ से बाहर, आज SC में सुनवाई

पंजाब नेशनल बैंक में 11400 करोड़ रुपयों के महाघोटाले के मामले में सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई होगी. एक जनहित याचिका में पीएनबी के वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई और नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की मांग की गई है.

यह जनहित याचिका वकील विनीत ढांडा ने दाखिल की है. उन्होंने अपील की है कि 10 करोड़ रुपये से ऊपर के बैंक लोन के लिए गाइडलाइन बनाई जाएं.

महाघोटाला करने वाले नीरव मोदी की भारत की तमाम जांच एजेंसियों को तलाश है. भारत में सीबीआई, ईडी से लेकर आयकर विभाग नीरव मोदी के ठिकानों पर लगातार छापे मार रहे हैं. दूसरी ओर नीरव पीएनबी से लेकर अपने कर्मचारियों को ई-मेल लिख रहे हैं, पर जांच एजेंसियों के हाथ नहीं लग रहे हैं.

नीरव मोदी ने अब अपने कर्मचारियों को ई-मेल लिखा है. उन्होंने अपने कर्मचारियों को सावधान किया है और उन्हें काम पर न आने के लिए कहा है.

नीरव मोदी की फर्म से जुड़े कर्मचारियों को मंगलवार को एक ई-मेल मिला. इसमें कर्मचारियों से दफ्तर न आने को कहा गया है. साथ ही ये भी ताकीद की गई है कि वे किसी से कोई बात न करें.

इसके साथ ही नीरव मोदी ने अपने कर्मचारियों से कहा है कि वेतन को लेकर वे चिंतित न हों. उन्होंने लिखा है कि सभी को वेतन दिया जाएग, इसलिए किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है.

नीरव मोदी की संपत्ति और ज्वैलरी भी जब्त की जा रही है. यही वजह है कि नीरव मोदी ने कर्मचारियों को ठिकानों पर न आने की ताकीद की है.

इससे पहले सोमवार को नीरव मोदी का पंजाब नेशनल बैंक को लिखा गया पत्र सामने आया था. ये पत्र 15-16 जनवरी को लिखा गया है जिसमें नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक को लोन का पैसा चुकाने से साफ इनकार कर दिया है. नीरव मोदी ने पीएनबी को लिखी इस चिट्ठी में कहा है कि उनके ऊपर बकाया रकम बढ़ाकर बताई गई है. चिट्ठी में ये भी लिखा गया है कि बकाया रकम 5000 करोड़ से कम है. उन्होंने साफ लिखा कि इस घटनाक्रम से उनकी कंपनी की साख गिरी है और उन्हें नुकसान पहुंचा है, इसलिए अब वो इसे चुकाने की स्थिति में नहीं हैं.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.