कलेक्टर ने दिए कार्य योजनानुसार धान खरीदी सुनिश्चित करने टोकन जारी करने के कड़े निर्देश

मनराखन ठाकुर

पिथौरा।

कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने आज यहां जिला कार्यालय के सभाकक्ष में समय-सीमा की बैठक लेकर काम-काज की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 में समर्थन मूल्य पर जिले की सहकारी समितियों द्वारा धान उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से धान क्रय किया जा रहा है। पंजीकृत किसानों की सुविधा के उद्देश्य से धान उपार्जन के लिए टोकन प्रणाली लागू की गई है।

इसके जरिए पंजीकृत कृषकों से 15 क्विंटल प्रति एकड़ धान का उपार्जन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उपार्जन केन्द्र से संबंधित गांव का आवश्यकतानुसार ग्रामवार खरीदी रोस्टर तय कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि धान उपार्जन हेतु खरीदी केद्रवार दैनिक धान खरीदी की मात्रा, आवश्यक बारदानें एवं परिवहन के लिए आवश्यक वाहन की उपलब्ध की कार्य योजना जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के माध्यम से अवगत कराया गया है। किसी भी केन्द्र में क्षमता से अधिक धान खरीदी नहीं होनी चाहिए।

इस संबंध में उन्होंने नोडल अधिकारियों एवं केन्द्र प्रभारियों को विशेष रूप से कार्य योजनानुसार धान की खरीदी सुनिश्चित करने हेतु टोकन जारी करने के कड़े निर्देश दिए है।

बैठक में कलेक्टर ने कहा कि उपार्जन केन्द्रों में धान के नियंत्रित एवं व्यवस्थित रूप से उपार्जन हेतु किसानों को अग्रिम टोकन जारी करने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि क्षमता से अधिक धान का उपार्जन नहीं हो इसका विशेष रूप से ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि केन्द्र प्रभारियों द्वारा शेष उपार्जन दिवस के मान से किसानों को टोकन जारी किए गए है।

टोकन में उल्लेखित धान की मात्रा किसान के स्वयं की उपज का धान है या नहीं इसकी जांच हल्का पटवारी से कराने के निर्देश दिए गए है। जांच के दौरान किसान के पास टोकन के अनुसार स्वयं का धान नहीं पाया जाता है, तो टोकन निरस्त करने की कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में जांच चौकियां बनाई गई है और इसके लिए अधिकारियों को नियुक्त भी किया गया है। नियुक्त अधिकारीगण जांच चौकियों पर सतत निगरानी सुनिश्चित करें।

बैठक में कलेक्टर ने पंचायतों की वसूली सहित राजस्व, भू-अभिलेख, डिजीटल सिग्नेचर आदि की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि नामांतरण, बंटवारे आदि की कार्यों के निराकरण के लिए विशेष रूप से अभियान चलाकर कार्रवाई पूरा करें।

उन्होंने समाज कल्याण, लोक निर्माण विभाग, कलेक्टर जनदर्शन, महिला एवं बाल विकास विभाग सहित अन्य विभागों के कार्यो, योजनाओं की भी समीक्षा की। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी, अपर कलेक्टर शरीफ मोहम्मद खान, आलोक पाण्डेय, संयुक्त शिवकुमार तिवारी, अनुविभागीय अधिकारीगण सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे!

1
Back to top button