हड़ताल आजः लड़ाई में बैंक मैनेजर भी भरेंगे हुंकार

अंकित मिंज

बिलासपुर। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ;यूएफबीयूद्ध के संयुक्त तत्वावधान में 26 दिसंबर को राष्ट्रव्यापी बैंक हड़ताल है। एसबीआइ मेन ब्रांच के सामने गांधी चौक के पास सुबह 10:30 बजे बैंक कर्मचारी अधिकारी केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध जताएंगे।

इस लड़ाई में बड़ी संख्या में ब्रांच मैनेजर भी शामिल होकर कर्मचारियों का उत्साह बढ़ाएंगे। यूएफबीयू के पदाधिकारियों ने मंगलवार को सोशल मीडिया के माध्यम से आम जनता से भी समर्थन मांगा है।

32 बैकों के 85 ब्रांच मैनेजर भी शामिल

इसके अलावा शहर के 32 बैकों के 85 ब्रांच मैनेजर को भी इसमें शामिल होने अनुरोध किया है। मैनेजर लोगों का कहना है कि कर्मचारियों के हित में पूरा समर्थन है। कुछ टीवी चैनल और सोशल मीडिया पर इस दिन छुट्टी को लेकर गलत अफवाह उड़ाई जा रही है।

केंद्र सरकार के खिलाफ लड़ाई में पूरा समर्थन का दावा किया है। बैंकर्स ने अपने परिवार के सदस्य, बैंक से जुड़े दोस्तो या सहकर्मियों को लेकर आने भी अपील कर रहे हैं। जिससे की सरकार के खिलाफ जंगी प्रदर्शन सफल हो सके।

बैकों के संविलियन व एनपीएफ और कर्मचारियों के अन्य मुद्दे को लेकर इसके पहले 21 दिसंबर को हड़ताल हुई थी। जिसमें बैंकर्स ने एकजुट होकर अपनी ताकत का अहसास कराया था।

कर्मचारियों में भरेंगे जोश

हड़ताल में बुधवार को कर्मचारियों में जोश भरने यूएफबीयू ने प्रमुख अधिकारियों को विशेष रूप से उपस्थित होने कहा है। इनमें ललित अग्रवाल, संयोजक, यूएफबीयू, डीके हाटी, डीजीएस, स्टेट बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन, राजेश रावत, डीजीएस,

स्टेट बैंक एम्प्लाइज फेडरेशन, सत्येंद्र सिंह, जिला सचिव, आइबॉक, एन वी राव, जिला सचिव, सीजीबीईए, अशोक ठाकुर, ओबीसी, शरद बघेल, केनरा बैंक, प्रहलाद अग्रवाल, मनोज मिरी, अश्विनी प्रधान,एजीएस,

सीजीबीईए, रूपम रॉय, बैंक ऑफ इंडिया, दीपा टण्डन, यूनियन बैंक, एमके पटसानी, देना बैंक, अनुराग बजाज, बैंक ऑफ बड़ौदा, विनिल गुप्ता, विजया बैंक एवं टीम बिलासपुर के सभी मैनेजर रहेंगे।

तीन सौ करोड़ का लेनदेन प्रभावित

सरकारी और निजी बैंक इस महीने लगातार पांच दिन बंद है। बीच में एक दिन सोमवार को खुला था। कल फिर बंद रहेगा। अभी तक करीब तीन सौ करोड़ के लेन देन प्रभावित होने का अनुमान है। ग्राहकों को भी क्रिसमस में समस्या हुई।

बैंक ऑनलाइन ट्रांजेक्शन पर पूरा फोकस कर रहा है। एटीएम मशीन में हालांकि स्थिति फिलहाल औसत है। विकराल संकट वाली स्थिति नहीं है। करेंसी चेस्ट में भी पर्याप्त रकम है। बैंक अधिकारियों की मानें तो सारी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।

new jindal advt tree advt
Back to top button