जेट ईधन पर कस्टम ड्यूटी बढ़ने से एयरलाइंस स्टॉक्स को लगा तगड़ा झटका

52 हफ्तों के निचले स्तर तक पहुंचा विमानन कंपनियों के शेयर

नई दिल्ली। जेट ईधन पर सरकार की ओर से कस्टम ड्यूटी बढ़ाए जाने के फैसले के बाद सूचीबद्ध विमानन कंपनियां हिचकोले खाती नजर आ रही है।

इस फैसले के बाद आज विमानन कंपनियों के शेयर 52 हफ्तों के निचले स्तर तक लुढ़क गए।

बीएसई में जेट एयरवेज के शेयर में जहां 6 फीसद से अधिक का गिरावट आई है वहीं इंडिगो एयरलाइंस के शेयरों ने करीब 4 फीसद का गोता लगाया है।

गौरतलब है कि बुधवार को सरकार ने एटीएफ (जेट ईंधन) समेत 19 सामानों पर लगने वाले कस्टम ड्यूटी में इजाफा कर दिया था।

शुल्क में बढ़ोतरी का फैसला गैर जरूरी सामानों के निर्यात को कम करने के मकसद से लिया गया ताकि देश के चालू खाता घाटा (सीएडी) को कम किया जा सके और रुपये की कमजोर होती हालत को सुधारा जा सके।

शुल्क में बढ़ोतरी

हालांकि जेट ईंधन पर कस्टम ड्यूटी को बढ़ाए जाने का फैसला पहले से ही दबाव का सामना कर रहे विमानन सेक्टर के लिए ठीक नहीं है।

इंडिगो की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि जेट ईंधन पर कस्टम ड्यूटी में पांच फीसद का इजाफा विमानन कंपनियों पर अतिरिक्त दबाव डालेगा।

Back to top button