छात्र राजनीति से हुई शुरुआत, अब लोकसभा के लिए भिड़ेंगे ये दोनों नेता

रायपुर : लोकसभा चुनाव को लेकर छत्तीसगढ़ के दो प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा ने अपने प्रत्याशियों का एलान कर दिया है. भाजपा ने जहाँ सभी 11 सीटों में प्रत्याशियों की घोषणा की है वहीँ कांग्रेस अभी तक 9 सीटों पर अपने प्रत्याशियों का एलान कर चुकी है. वहीँ इस बार सबसे रोचक मुकाबला रायपुर लोकसभा क्षेत्र में होने वाला हैं यहाँ पूर्व महापौर और वर्तमान महापौर के बीच सीधी टक्कर होगी.

भाजपा ने जहाँ रायपुर के पूर्व मेयर सुनील सोनी को रायपुर लोकसभा से उम्मीदवार बनाया है तो वहीँ कांग्रेस ने रायपुर के वर्तमान महापौर प्रमोद दुबे को प्रत्याशी बनाया है. रायपुर लोकसभा से दोनों पार्टियों ने जिन लोगों को प्रत्याशी बनाया है वो दोनों नेता छात्र राजनीति से आये हुए हैं. अब आपको बताते हैं सुनील सोनी पर प्रमोद दुबे ने किस तरह राजनीति में प्रवेश किया.

सुनील ने इस तरह किया राजनीति में प्रवेश

सुनील कुमार सोनी अपनी युवा अवस्था में वर्ष 1983 में दुर्गा महाविद्यालय रायपुर के छात्रसंघ अध्यक्ष रहे एवं इसके उपरांत भारतीय जनता पार्टी रायपुर जिला के मंत्री, कोषाध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष पद पर रहे हैं. सुनील सोनी जनवरी 2000 से 25 दिसंबर 2003 तक नगर पालिका निगम रायपुर के अध्यक्ष रहे, इसके बाद 2003 से 2010 तक नगर पालिका निगम रायपुर के महापौर पद पर कार्य किए. साल 2011 में वो रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष पड़ पर भी कार्यरत थे. वहीँ वर्तमान में वे भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष हैं.

प्रमोद दुबे भी छात्र राजनीति से आये

प्रमोद दुबे ने स्नातक स्तर की पढ़ाई करते हुए राजनीति में प्रवेश किया। उन्होंने 1985-1986 में छात्र संघ चुनावों में भाग लिया छात्र संघ के उपाध्यक्ष बने। जे योगानंदम छत्तीसगढ़ कॉलेज 1986-1987 में उन्होंने कॉलेज स्तर के चुनाव जीते और राज्य विश्वविद्यालय स्तर पर छात्र संघ के अध्यक्ष चुने गए। वे पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में छात्र संघ अध्यक्ष बने। प्रमोद दुबे ने प्लेसमेंट के लिए छात्रों के अधिकार का समर्थन किया और एसीसी लिमिटेड, लाफार्ज और अल्ट्राटेक जैसी सीमेंट कंपनियों में छात्रों को लाने के लिए काम किया।

1997-2000 के दौरान वह रायपुर शहरी और ग्रामीण युवा कांग्रेस के अध्यक्ष थे. 2001 में वह छत्तीसगढ़ युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष बने. 2004-2009 तक, उन्होंने ब्राह्मणपारा वार्ड के लिए पार्षद के रूप में काम किया। वहीँ 2009 में वह शहीद चूड़ामणि नायक वार्ड के पार्षद बने। पार्षद के बाद 7 जनवरी 2015 को, प्रमोद दुबे ने रायपुर नगर निगम के मेयर का पद ग्रहण किया। जो वर्तमान में शहर के महापौर का दायित्व संभाल रहे हैं.

Back to top button