Uncategorized

जी-20 में सफल कूटनीति

इन सब राष्ट्रों का लक्ष्य यह होता है कि वे एक जगह बैठकर अंतरराष्ट्रीय वित्तीय, व्यापारिक, आर्थिक और कानूनी समस्याओं पर विचार करें और उन्हें हल करने के रास्ते निकालें। ये 19 राष्ट्र और 20 वां यूरोपीय संघ मिलकर दुनिया का 85 प्रतिशत व्यापार करते हैं और 80 प्रतिशत सकल उत्पाद के ये मालिक हैं। इस सम्मेलन में मेादी के भाषणों का जोर इसी बात पर रहा कि नीरव मोदी, चोकसी, माल्या जैसे आर्थिक अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने में सारे सदस्य राष्ट्र एक दूसरे का सक्रिय सहयेाग करें।

मोदी ने अपना नौ-सूत्री कार्यक्रम भी पेश किया। दुनिया के जो राष्ट्र ऐसे अपराधियों को अपने यहां शरण देते हैं, पता नहीं, उन पर मोदी का कितना असर होगा। लेकिन असर होने का माहौल तो जरुर बनेगा। मोदी का दूसरा बड़ा हमला आतंकवाद पर था, खासकर उस आतंकवाद पर जो दूसरे देशों को निर्यात किया जाता है। मोदी ने आतंकवाद को प्रोत्साहित करने ओर समर्थन करनेवाली शक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की अपील की है। इस तरह की अपीलें भारत के पिछले प्रधानमंत्री भी कर चुके हैं लेकिन आजकल उनका असर हेाता इसलिए दिख रहा है कि पश्चिम के शक्तिशाली राष्ट्रों के अंदर भी इधर आतंकवादी घटनाएं जोरों से होने लगी हैं।

भारत के इन दो प्रमुख लक्ष्यों को साधने के अलावा मोदी ने प्रमुख राष्ट्रों के नेताओं से भी विशेष भेंट की। दो त्रिपक्षीय भेंटों ने विशेष ध्यान खींचा। एक भेंट अमेरिका के डोनाल्ड ट्रंप, जापान के शिंजो एबे से और दूसरी रुस के व्लादिमीर पुतिन और चीन के शी चिन फिंग के साथ। लगे हाथ उन्होंने वहां ‘ब्रिक्स’ की भी एक बैठक कर ली। यूरोपीय संघ और संयुक्तराष्ट्र संघ के प्रमुख से भी बात हो गई। जितनी मुलाकातों में एक माह लग जाता, वे दो दिन में हो गईं। यदि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मोदी साथ में ले जाते, तो सोने में सुहागा हो जाता।

Tags
Back to top button
%d bloggers like this: