पिनाक रॉकेट का सफल परीक्षण, 90 किलोमीटर दूरी तक टारगेट करेगा तबाह

भारतीय सेना दुश्मन के किसी भी तरह के हमले का जवाब देने के लिए सक्षम है. हर साल 26 जनवरी को सेना की ताकत पूरी दुनिया देखती है. लेकिन अब भारत को एक मल्टीबैरल पिनाक रॉकेट मिलने वाला है. सोमवार को डीआरडीओ ने इसका सफल परीक्षण किया. यह रॉकेट काफी दूर से ही दुश्मन के ठिकानों को तबाह कर सकता है. पोखरण रेंज में हुए इस रॉकेट के दोनों परीक्षण सफल रहे हैं.

भारतीय सेना के लिए अहम हथियार
पिनाक रॉकेट भारतीय सेना के लिए एक अहम हथियार साबित हो सकता है. भारत के पास पहले से ही ऐसी कुछ मिसाइलें और रॉकेट हैं, जो दुश्मन के इलाके में जाकर तबाही मचा सकते हैं. लेकिन अब इस नई तकनीक से इंडियन आर्मी को एक नई ताकत मिलेगी. यह रॉकेट कुछ ही पलों में लंबी दूरी पर अपने टारगेट को हिट करने में सक्षम है.

बताया जा रहा है कि यह पिनाक गाइडेड रॉकेट 90 किलोमीटर तक की दूरी पर मौजूद दुश्मन के किसी भी ठिकाने को उड़ाने में सक्षम है. अपने परीक्षण के दौरान इस रॉकेट ने ठीक अपने टारगेट पर हिट किया और परीक्षण के सभी पैमानों पर खरा उतरा.

एडवांस नेवीगेशन से लैस
यह रॉकेट तकनीक एडवांस नेवीगेशन से लैस बताया जा रहा है. इसमें पुराने रॉकेट और मिसाइलों के मुकाबले कई नए और बेहतर सिस्टम मौजूद हैं. जानकारी के मुताबिक, यह रॉकेट अपने छोटे से छोटे टारगेट को हिट कर सकता है. बताया जा रहा है कि इस रॉकेट के परीक्षण के दौरान भी लंबी दूरी पर एक छोटा टारगेट रखा गया था. इसके लॉन्च के बाद लगातार निगरानी रखी गई और अंत में रॉकेट ने ठीक टारगेट पर हिट किया.

दुश्मनों को चुनौती
हाल ही में भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध जैसे हालात बन चुके थे. पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तानी सीमा में मौजूद आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की. इसके बाद पाकिस्तान की तरफ से भी फाइटर जेट भेजे गए. सभी ने इसे युद्ध के हालात बताया था.

ऐसे में भारत की ये नई रॉकेट तकनीक दुश्मन के लिए एक चुनौती की तरह है. दुश्‍मनों के किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए भारत के पास आधुनिक हथियार मौजूद हैं.

Back to top button