मनोरंजन

स्किन टोन को लेकर मजाक बनाने वाले ट्रोलर्स को सुहाना ने लिया निशाने पर

ट्रोलर्स को समझाया ‘काला’ और ‘काली’ का फर्क

नई दिल्लीः स्किन टोन को लेकर मजाक बनाने वाले ट्रोलर्स को शाहरुख खान और गौरी खान की बेटी सुहाना खान ने कहा कि यह उन सभी लोगों के लिए है जो हिंदी नहीं बोलते हैं. मैंने सोचा था कि आपको थोड़ा समझा दूं.

हिंदी में काले रंग के लिए शब्द ‘काला’ इस्तेमाल होता है. वहीं, शब्द ‘काली’ का उपयोग एक महिला के संदर्भ में किया जाता है, जो गहरे रंग की होती है और यह हमेशा से ही सही वजह के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता है.’

20 साल की सुहाना ने शुरुआत में लिखा, ‘आजकल बहुत कुछ चल रहा है और यह उन मुद्दों में से एक है, जिसे हमें ठीक करने की आवश्यकता है!! यह सिर्फ मेरे बारे में नहीं है, यह हर युवा लड़की/लड़के के बारे में है जो बिना किसी वजह के हीन भावना के साथ बड़ा हुआ है. यहां मेरे बारे में कुछ टिप्पणियां की गई हैं. मुझे 12 साल की उम्र से लोग बताते रहे हैं कि मैं अपनी त्वचा की टोन की वजह से बदसूरत दिखती हूं.’

सुहाना आगे कहती हैं, ‘इस तथ्य के अलावा कि कहने वाले सभी लोग वयस्क हैं, पर दुख की असल बात यह है कि हम सभी भारतीय हैं, जो स्वाभाविक रूप से भूरी त्वचा के होते है. हां, हमारे त्वचा के रंगों में फर्क होता है, पर मेलेनिन से दूरी बनाने की कोशिश करने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला. आप ऐसा नहीं कर सकते. अपने ही लोगों से नफरत करने का मतलब है कि आप खुद में बेहद असुरक्षित महसूस करते हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button