अरविंद केजरीवाल व मनीष सिसोदिया के खिलाफ चार्जशीट

पुलिस ने चार्जशीट तैयार कर ली है और एक सप्ताह के अंदर तीस हजारी कोर्ट में दायर करेगी।

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ बदसलूकी व मारपीट मामले में दिल्ली पुलिस आम आदमी पार्टी के 11 विधायकों के अलावा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भी आरोपित बनाएगी।

पुलिस ने चार्जशीट तैयार कर ली है और एक सप्ताह के अंदर तीस हजारी कोर्ट में दायर करेगी। हालांकि पुलिस चार्जशीट दायर करने से पहले केजरीवाल, सिसोदिया व विधायकों को गिरफ्तार नहीं करेगी।

पुलिस का कहना है कि उसने सभी 13 आरोपितों के खिलाफ पर्याप्त सबूत जुटा लिए हैं। केस की मजबूती के लिए उसने दिल्ली सरकार के विभिन्न विभागों में तैनात चार ऐसे आईएएस अफसरों के भी बयान दर्ज किए हैं, जिनसे मुख्यमंत्री व उनके मंत्रियों द्वारा पहले बदसलूकी की जा चुकी है। सचिव स्तर के इन आईएएस अधिकारियों के बयान को चार्जशीट में शामिल किया गया है।

पुलिस आपराधिक साजिश रचने, सरकारी कामकाज में बाधा पहुंचाने, सरकारी कर्मचारी को ड्यूटी के दौरान चोट पहुंचाने, मारपीट करने, कमरे में बंधक बनाने व कई लोगों द्वारा जान से मारने की धमकी देने की धाराओं में चार्जशीट दायर करेगी।

इनमें ओखला के विधायक अमानतुल्लाह खान और देवली के विधायक प्रकाश जारवाल के खिलाफ मारपीट समेत अन्य सभी सात धाराओं में और केजरीवाल व सिसोदिया के अलावा नौ अन्य विधायकों के खिलाफ आपराधिक साजिश रचने की धारा में चार्जशीट दायर की जाएगी। इन धाराओं के तहत अधिकतम तीन साल व न्यूनतम एक साल कैद का प्रावधान है।

मौजूद थे ये विधायक

घटना वाली रात मुख्यमंत्री आवास पर अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया के अलावा विधायक राजेश ऋषि, राजेश गुप्ता, ऋतुराज गोविंद, मदन लाल, प्रवीण कुमार, दिनेश मोहनिया, संजीव झा, अजय दत्त, नितिन त्यागी, अमानतुल्लाह खान व प्रकाश जारवाल मौजूद थे।

Back to top button