सुकमा : राज्योत्सव कार्यक्रम में पशुधन विकास विभाग ने लगाई प्रदर्शनी

संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने हितग्राहियों को किया लाभान्वित

सुकमा 02 नवंबर 2021 : छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर विगत दिवस शबरी ऑडिटोरियम में आयोजित राज्योत्सव कार्यक्रम पशुधन विभाग सुकमा द्वारा विभागीय योजनाओं के प्रचार और उपलब्धियों के संबंध में प्रदर्शनी लगाई। पशुधन विकास विभाग में चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं एवं उनसे लाभांवित हितग्राहियों को फैक्ल्स के माध्यम से प्रदर्शन किया गया।

साथ ही नेपियर घास, कड़कनाथ, मुर्गी पालन, असली ब्रिड, अजोला टैंक, कृत्रिम गर्भाधान के उपकरण, कृत्रिम गर्भाधान से लाभ एवं विभिन्न औषधियों, चारा बीज का प्रदर्शन भी किया गया।

मुख्य अतिथि रेखचंद जैन, जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी, कलेक्टर विनीत नन्दनवार, पुलिस अधीक्षक सुनील शर्मा सहित, वन मण्डल अधिकारी जाधव सागर, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  देव नारायण कश्यप सहित अन्य अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने विभागीय प्रदर्शनियों का अवलोकन कर प्रशंसा व्यक्त की।

पशुधन विकास विभाग 

मुख्य अतिथि ने पशुधन विकास विभाग की विभिन्न योजनाओं से हितग्राहियों को लाभान्वित किया। उन्होंने मादा वत्स पालन योजना के 5 हितग्राहियों को 15 हजार रुपए व नर बकरा योजना में विभिन्न ग्रामों के 15 हितग्राहियों को 4-4 हजार रुपए का चेक प्रदाय किया। इस दौरान उन्होंने सेक्स शॉर्टेड सीमेन से उत्पन्न मादा बछिया व नर बकारा के तहत् उत्पन्न बकरियों का अवलोकन किया। इसके साथ ही बैकयार्ड कुक्कुट पालन योजना के अन्तर्गत चिपुरपाल गौठान के सकरी एवं तुलसी स्व-सहयता समूह की महिलाओं को 28 दिवसीय 45 नग चूजे प्रदान किए। उन्होंने जिले में पशुपालन एवं पशुसंवर्धन के क्षेत्र में हो रहे बेहतर कार्य की प्रशंसा की।

पशुधन विकास विभाग सुकमा के उप संचालक डॉ. एस जहीरूद्दीन ने संसदीय सचिव श्री जैन को विभागीय योजनाओं एवं विभागीय उपलब्धियों से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि गोठान चारागाह विकास के तहत् जिले में 80 चारागाह की स्वीकृत किए गए हैं, जहां 241.50 एकड़ में 3 लाख 25 हजार नेपियर रुट लगाया गया है जो वर्तमान में पूरी तरह कटाई के योग्य हो चुकी है। गोठान प्रबंधन समितियों को चॉफ कटर प्रदान की गई हैं, जिसके माध्यम से गोठानों के पशुओं को नेपियर घास की कटिंग चारा उपलब्ध कराई जाएगी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button