छत्तीसगढ़

सुनील ने डबरी खनन कर बढ़ाया अपना व्यवसाय

कवर्धा । कबीरधाम जिले के सुनील कुमार ने अपने घर से सटे खेत में डबरी खनन किया। डबरी का खनन जल संवर्धन की दिशा के साथ-साथ आमदानी बढ़ाने के लिए भी सूझबूझ का काम किया है। कम पढ़े लिखे होने के बाद भी सुनील ने अपनी सूझबूझ से अपने खेत में मात्र एक डबरी निर्माण कर अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर दिखाया है। कवर्धा से सटे गांव धमकी के रहने वाले सुनील ने शासन की योजनाओं के बेहतर ढंग से लाभ लेकर समाज और अपने गांव में प्रतिष्ठा स्थापित कर दिखा है।
सुनील के पास बहुत ही कम खेती है। इनका मूल काम सब्जी भाजी लगाकर उसे बेचना है। सुनील ने अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ महात्मा गांधी नरेगा योजना में पंजीयन कराया। सुनील ने पानी की समस्या को खत्म करने के लिए महात्मा गांधी नरेगा योजना से अपने आंगन में डबरी बनाने की मांग ग्राम पंचायत में की । पंचायत की ओर से इनकी परेशानी को ध्यान में रखते हुए वित्तीय वर्ष 2016-17 में एक लाख 45 लाख की लागत से डबरी का कार्य स्वीकृत कराया। डबरी निर्माण के कार्य में सुनील और उसके परिवार के साथ अन्य मजदूरों को 676 दिन का रोजगार भी मिला। परिवार की कुल मजदूरी एक लाख 13 हजार रुपए हुई। इस तरह सुनील के आंगन में बरसात का पानी रोकने के लिए एक डबरी तैयार हो गई। बरसात में डबरी लबालब भर गयी जिसका असर यह हुआ की डबरी के चारों ओर पर्याप्त मात्रा में मिट्टी में नमी आ गई। डबरी बनने के बाद ऐसे किसानों को अभिसरण के माध्यम से दूसरे लाभ देने की कार्ययोजना बनाई गई,जिसके तहत सुनील को कृषि विभाग से 1 किलो अरहर मिनीकिट दी गई। अरहर मिनीकिट को सुनील की ओर से अपने डबरी के मेंढ़ पर चारों ओर लगाया गया, मिट्टी में नमी होने के कारण अरहर का बहुत ही अच्छा उत्पादन मिला जिसका उपयोग सुनील का परिवार साल भर करेगा। मत्स्य विभाग से सुनील को मछली पालने की बारियों से रूबरू कराया गया और मछली पालने के लिए विभाग ने इन्हे नि:शुल्क में बीज भी दिया । उक्त बीज अब सुनील की डबरी में एक किग्रा से अधिक की मछली बन चुके हैं जिसे वे बाजार में बेचने के लिये तैयार है,जिससे इन्हें अलग से आमदनी भी होगी । उन्हें घर में ही पौष्टिक आहार भी मिलेगा इन फायदों के अतिरिक्त सबसे बड़ा फायदा हुआ सब्जी की पैदावार में। फूलगोभी , लालभाजी, मूली , मेथी भाजी, बंदगोभी जैसी अनेक सब्जीयां डबरी के आसपास लगाइ गई डबरी के पानी में एक छोटा सा पंप लगाकर पानी सब्जियों तक पहुंचाया गया इसका फायदा हुआ की सब्जियां बहुत अच्छी हुई जिसे सुनील बाजार में बेचकर अतिरिक्त मुनाफा भी कमा रहा है।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.