क्राइमराष्ट्रीय

हाई प्रोफाइल मर्डर की साजिश रचने वाले सुपारी गैंग का हुआ पर्दाफाश

भाभी और उसकी बहन को मारने की करीब 60 लाख की सुपारी दी थी

मुंबई: मुंबई पुलिस ने एक हाई प्रोफाइल मर्डर की साजिश रचने वाले सुपारी गैंग का पर्दाफाश किया है. इस मामले में पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. दो महिलाओं की हत्या की इस सुपारी के तार लंदन, मुंबई और उत्तर प्रदेश से जुड़े हुए हैं.

बता दें कि साल 2013 में मुंबई के मटका किंग सुरेश भगत की कार एक्सीडेंट में मौत हुई थी, जिसमें कुल 6 लोग मारे गए थे. पुलिस की जांच में पता चला था कि यह एक्सीडेंट नहीं हत्या है. इस मामले में पुलिस ने सुरेश भगत की पत्नी जया भगत और उसके बेटे को गिरफ्तार भी किया था, जिन्हें सजा भी मिली. लेकिन अभी वह जेल से बाहर थे.

मुंबई पुलिस के मुताबिक अपने भाई सुरेश भगत की हत्या का बदला लेने के लिए ही उसके भाई मटका किंग विनोद भगत ने अपनी भाभी जया और उसकी बहन को मारने के लिए करीब 60 लाख की यह सुपारी लंदन में बैठे एक क्रिमिनल को दी थी, जिसके लिए शूटर उत्तर प्रदेश से आए थे. लेकिन घटना को अंजाम देने से पहले ही वह मुंबई पुलिस के हत्थे चढ़ गए.

फिर इस सुपारी किलिंग की वारदात की साजिश को रचने वाले मुख्य आरोपी विनोद भगत ने अपने भाई सुरेश भगत की हत्या का बदला लेने के लिए अपनी भाभी जया भगत और उसकी बहन को मारने की सुपारी यूके में रहने वाले मामू नाम के शख्स को दी थी.

मामू ने उत्तर प्रदेश के बिजनौर के रहने वाले जावेद और कुछ आरोपीयो को ये काम सौंपा. जो मुंबई पहुंचे थे और जहां पर जया भगत रहती है उस इलाके की रेकी भी कर चुके थे. लेकिन इसी दौरान इस हत्या की वारदात को अंजाम देने की भनक मुंबई पुलिस को लग गई. इस मामले में 6 आरोपियो में से 5 को गिरफ्तर कर लिया गया है.

क्राइम ब्रांच की बांद्रा यूनिट ने पहले एक व्यक्ति को खार दांडा से गिरफ़्तार क़िया. उसके पास से दो कट्टा, 6 जिंदा कारतूस और 2 महिलाओं के फोटो मिले. इसके बाद में पता चला कि ये व्यक्ति उन महिलाओं की हत्या करने आया था. इससे पूछ्ताछ के बाद 2 और लोगों की गिरफ़्तारी की गई है.

पुलिस के मुताबिक, इन सुपारी किलर को दोनों महिलाओं की हत्या करने के लिए करीब 60 लाख की सुपारी दी गई थी. फिलहाल मुंबई पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है और विनोद भगत अपनी भाभी और उसकी बहन को क्यों मरवाना चाहता था, इसके सही कारण का पता लगा रही है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button