राष्ट्रीय

कश्मीरी पंडितों के खिलाफ हिंसा की जाँच याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की ख़ारिज

सोमवार को एक एनजीओ की याचिका पर कोर्ट ने कहा कि इस मामले के 27 साल बीत चुके हैं. ऐसे में पुलिस को जांच के दौरान कोई साक्ष्य नहीं मिल पाएगा.

वर्ष 1989-90 के दौरान कश्मीर में कश्मीरी पंडितों के खिलाफ हिंसा की घटनाओं की फिर से जांच की मांग को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया.

यह याचिका रूट्स इन कश्‍मीर नामक एनजीओ की ओर से दाखिल की गई. जिसमें कोर्ट ने याचिकाकर्ता के वकील को कहा कि वह इस मसले पर कानूनी बिंदुओं पर बोले, राजनीतिक भाषण न दे. चीफ जस्‍टिस जेएस खेहर ने कहा कि आप केवल सुर्खियों में दिलचस्पी रखते हैं.

याचिकाकर्ता ने याचिका में कहा कि वर्ष 1989-90 के दौरान कई नरसंहार हुए, जिसमें लगभग 700 लोग मारे गए हैं. इन मामलों की ठीक से जांच नहीं हुई है.

इन मामलों की जांच के लिए कोई भी सरकार ने कुछ नहीं किया है.

Tags
Back to top button