उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति मोहन एम शांतनागोदर का निधन

कोरोना वायरस संक्रमण के 26,169 नए मामले सामने आए थे

नई दिल्ली:सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस मोहन एम शांतनागोदर का निधन हो गया है. जस्टिस शांतनागोदर 62 साल के थे. उन्होंने देर रात गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में आखिरी सांस ली.

सूत्रों ने बताया कि न्यायमूर्ति शांतनागोदर को फेफड़े में कोरोना संक्रमण के चलते मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वह आईसीयू में थे. न्यायालय के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार देर रात तक उनकी हालत स्थिर बताई गई थी. अधिकारी ने बताया कि हालांकि, देर रात करीब 12:30 बजे उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने परिवार को यह दुखद समाचार दिया.

न्यायमूर्ति शांतनागोदर को 17 फरवरी 2017 को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के तौर पर पदोन्नत किया गया था. उनका जन्म पांच मई 1958 को कर्नाटक में हुआ था. उन्होंने पांच सितंबर 1980 को एक वकील के तौर पर पंजीकरण कराया था. उच्चतम न्यायालय में पदोन्नत किये जाने से पहले न्यायमूर्ति शांतनागोदर केरल उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रहे.

कोरोना वायरस संक्रमण के 26,169 नए मामले सामने आए थे

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि दिल्ली में कोरोना का संक्रमण बेतहाशा बढ़ गया है और नियंत्रण के बाहर दिख रहा है. लगातार बढ़ रहे संक्रमण के चलते पिछले 25 घंटों में ही कोरोना से 357 लोगों की मौत हो गई है.

वहीं, 24103 नए कोरोना संक्रमित मामले सामने आए हैं. पॉजिटिविटी रेट की बात की जाए तो वो अभी फिलहाल 32.27% पर बनी हुई है. पिछले आंकड़ाें को मिलाते हुए अब तक एक्टिव मामलों की संख्या 93080 पर पहुंच गई है और तेजी से बढ़ती जा रही है.

वहीं, शुक्रवार की बात की जाए 348 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं 24331 नए कोरोना संक्रमित मामले सामने आए थे. दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 26,169 नए मामले सामने आए थे.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button