सिंगापुर ओपन में पीवी सिंधु, साइना नेहवाल और किदांबी श्रीकांत से भारत को उम्मीद

सिंगापुर: देश की शीर्ष महिला शटलर पीवी सिंधु का फॉर्म समय अच्छा नहीं चल रहा है. प्रतिष्ठित ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप के पहले दौर में मिली हार के बाद से आगे के टूर्नामेंट भी उनके लिए अच्छे नहीं रहे हैं. ओलिंपिक खेलों की सिल्वर मेडलिस्ट सिंधु को उम्मीद है कि वे मंगलवार से प्रारंभ होने वाली 355,000 डॉलर इनामी राशि वाली सिंगापुर ओपन चैंपियनशिप के जरिये फॉर्म में वापसी करने में सफल रहेंगी. उधर, पुरुष वर्ग में किदांबी श्रीकांत भारत की चुनौती की अगुवाई करेंगे.

गौरतलब है कि सिंधु को बैडमिंटन की सबसे प्रतिष्ठित चैंपियनशिप मानी जाने वाली ऑल इंग्लैंड के पहले दौर में हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद मलेशिया ओपन में वे दूसरे दौर से आगे नहीं बढ़ पाईं. इन दोनों टूर्नामेंट में सिंधु को कोरिया की सुंग जी ह्यून ने हराया था. वह इंडिया ओपन के सेमीफाइनल में पहुंची थीं लेकिन चीन की ही बिंगजियाओ से हार गई थीं. सिंगापुर में सिंधु भारतीय चुनौती की अगुवाई करेंगी. उनका पहला मुकाबला इंडोनेशिया की लायनी अलेसांद्रा मैनाकी से होगा. इस सत्र में खिताब जीतने वाली एकमात्र भारतीय साइना नेहवाल को पहले दौर में डेनमार्क की उदीयमान खिलाड़ी होयमार्क कयार्सफील्ड के खिलाफ सतर्कता बरतनी होगी.

पुरुष वर्ग में भारत की निगाहें किदांबी श्रीकांत पर केंद्रित रहेंगी. इस बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 500 प्रतियोगिता में श्रीकांत क्वालीफायर के खिलाफ मैच खेलकर अपने अभियान की शुरुआत करेंगे. अन्य खिलाड़ियों में एचएस प्रणय का सामना फ्रांस के ब्राइस लेवरडेज से जबकि स्विस ओपन के फाइनलिस्ट बी साई प्रणीत का सामना दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी और शीर्ष वरीयता प्राप्त केंटो मोमोटा से होगा. समीर वर्मा पहले दौर में क्वालीफायर से भिड़ेंगे. प्रणय जेरी चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी की मिश्रित जोड़ी, अश्विनी पोनप्पा और सिक्की की महिला जोड़ी और मनु अत्री और बी सुमीत रेड्डी की पुरुष जोड़ी युगल में भारतीय चुनौती पेश करेंगे.

Back to top button