छत्तीसगढ़

सर्जिकल स्ट्राइक : भारतीय सेना के वीरता की कहानी

राजमोहनी देवी कृषि महाविद्यालय में भाजपा किसान मोर्चा द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की डॉक्यूमेंट्री दिखायी गई

इस दौरान भारत पाकिस्तान द्विपक्षीय संबंधों के शोधकर्ता आलोक कुमार तिवारी ने बताया कि पाकिस्तान के सह पर आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद व लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों द्वारा भारतीय सीमा में घुसकर उरी स्थित सेना के कैंप में हमला किया गया था इस दौरान सेना के 19 जवान शहीद हुए थे। जिसका बदला लेते हुए भारतीय सेना के पैरा स्पेशल फाॅर्स ने पाक अधिकृत कश्मीर में घुसकर 29 सितम्बर 2016 को आतंकवादियों के 3 कैंपो को तबाह कर नश्तों-ना-बूत कर दिया जिसमे अनुमानन 50 से ज्यादा आतंकवादियों को मार गिराया गया था।

आलोक तिवारी ने कहा कि इस सर्जिकल स्ट्राइक से भारतीय सेना समेत देशवासियों का मनोबल बढ़ा, हमें भारतीय सेना पर गर्व है, यह केवल सर्जिकल स्ट्राइक ही नहीं बल्कि भारतीय सेना के वीरता की कहानी व 10 दिन पूर्व अर्थात 18 सितंबर 2016 शहीद हुए जवानो की शहादत का बदला था जिसे हर भारतीय को जानना चाहिए। इस दौरान डॉक्यूमेंट्री के माध्यम इस सर्जिकल स्ट्राइक की कहानी चित्रण किया गया।

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भाजपा के वरिष्ठ नेता मेजर अनिल सिंह, विशिष्ट अतिथि भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश महामंत्री भारत सिंह सिसोदिया, आकाश गुप्ता, कार्यक्रम अध्यक्षता महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ वी के सिंह ने किया ।

कार्यक्रम का संचालन व आयोजन भाजपा के अंशुल श्रीवास्तव ने तथा आभार प्रदर्शन कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ रंजीत कुमार ने किया । इस दौरान मयंक पाठक, प्रितेश दुबे, प्रियेश अग्रहरि, अंकुर राणा, डॉ ए. के. सिंह, डॉ पी के जायसवाल, एस के सिन्हा, प्रो विनोद नायर, डॉ अरुणिमा त्रिपाठी, प्रो ज्योति बजेली अथर्व व्यास, कृष्णा सोनी, राहुल वर्मा, विनायक पाण्डेय, सर्वेश तिवारी समेत महाविद्यालय के विद्यार्थी व शहर के युवा उपस्थित थे ।

Tags