क्राइमबड़ी खबरमनोरंजन

सुशांत और दिशा का हुआ था मर्डर: बीजेपी नेता

बीजेपी लीडर ने मीडिया से बातचीत में कहा, रिया चक्रवर्ती सुशांत के साथ उनके घर रह रही थीं. उन्होंने अपना फोन बंद कर लिया. वो इस मामले में आरोपी हैं और वे अब गायब हैं और पुलिस को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. आखिर कौन सुशांत को पिछले 20 दिनों से धमका रहा था जिसके चलते उन्हें अपना सिम रोज बदलना पड़ा. आखिर इसकी जांच क्यों नहीं हो रही है?

SSR Death case: बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे ने सुशांत सिंह राजपूत और दिशा सालियान केस में सनसनीखेज आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा है कि सुशांत ने सुसाइड नहीं किया है बल्कि उनका मर्डर हुआ है. इसके अलावा दिशा के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि दिशा ने भी सुसाइड नहीं किया है बल्कि उनका मर्डर किया गया है.

बीजेपी लीडर ने मीडिया से बातचीत में कहा, रिया चक्रवर्ती सुशांत के साथ उनके घर रह रही थीं. उन्होंने अपना फोन बंद कर लिया. वो इस मामले में आरोपी हैं और वे अब गायब हैं और पुलिस को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. आखिर कौन सुशांत को पिछले 20 दिनों से धमका रहा था जिसके चलते उन्हें अपना सिम रोज बदलना पड़ा. आखिर इसकी जांच क्यों नहीं हो रही है?

उन्होंने आगे कहा कि दिशा सालियान की मौत 8 जून को हुई थी. उनका पोस्टमार्टम 9 जून को हुआ था. क्या वो सुशांत के साथ रह रही थी? क्या पुलिस ने इस बात की जांच की? मेरे पास उनकी पोस्टमार्टम की जानकारी है जिसमें कहा गया है कि उन्होंने सुसाइड नहीं किया है बल्कि उनकी हत्या हुई है. आखिर पुलिस इस मामले में चुप क्यों हैं?

राणे ने कहा कि ऐसा लगता है कि ये सरकार उन लोगों को बचा रही है जो इस मामले में फंस सकते है. ये इतना महत्वपूर्ण मुद्दा है और इस मुद्दे से ध्यान भटकाया जा रहा है. कई लोगों की तरह मुझे भी लगता है कि ये सुसाइड नहीं है बल्कि मर्डर है. 50 दिन बीत चुके हैं और मुंबई की विश्व प्रसिद्ध पुलिस अब तक इस मामले में असली गुनहगार को ढूंढ नहीं पाई है.

उन्होंने आगे कहा कि मैं यकीन से कह सकता हूं कि इस मामले में प्रभावशाली लोग किसी ना किसी को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. सूरज पंचोली की हाउस पार्टी 13 जून को हुई थी, आखिर उस मामले में पूछताछ क्यों नहीं की जा रही है. मुंबई पुलिस इस मामले में न्याय नहीं दे सकती है. आखिर मुंबई पुलिस कमिश्नर इतने नाराज क्यों हैं? आखिर बीएमसी ने बिहार के आईपीएस ऑफिसर को क्यों क्वारनटीन किया ?

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button