पाण्डुका थाना में ठगी के आरोपी ने की खुदकुशी, टीआई समेत पांच पुलिस वाले निलंबित….

- तामेश्वर साहू

गरियाबंद: पुलिस धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी आटोमोबाइल सेल्समैन ने न्यायालय में पेश करने से पहले शौचालय के रोशन दान में अपनी शर्ट को फंदा बनाकर फांसी लगा ली. मामले को गंभीरता से लेते हुए थाना प्रभारी सहित 5 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर न्यायिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

जानकारी के अनुसार, पांडुका पुलिस ने जायका ऑटो मोबाइल के सेल्समैन सुनील श्रीवास को धोखाधड़ी के मामले में सोमवार को गिरफ्तार किया था. मंगलवार को न्यायालय में पेश करने से पहले उसने थाना भवन से करीबन 80 मीटर दूर स्थित शौचालय के रोशन दान में अपने शर्ट से फंदा बना कर आत्महत्या कर ली.

पाण्डुका थाना में ठगी के आरोपी ने की खुदकुशी, टीआई समेत पांच पुलिस वाले निलंबित....

बताया गया कि सुबह करीबन 8 बजे आरोपी शौचालय जाने की बात कही. लौट के आने के बाद दोबारा 9 बजे शौच जाने के लिये कहा.ड्यूटी में तैनात पुलिस कर्मी शौचालय तक छोड़ने के बाद उसके बाहर निकलने का इंतजार कर रहा था. लंबे समय बाद भी आरोपी बाहर नहीं निकला, शंका होने पर थाने के अन्य स्टाफ के साथ मिलकर दरवाजा तोड़ने का प्रयास किया गया.

फिर किस तरह छज्जे के ऊपर से शौचालय के अंदर प्रवेश किए, तब तक आरोपी फंदे पर झूल चुका था. मामले की जानकारी मिलने के बाद एसपी एमआर अहिरे समेत आला अफसर पांडुका थाने पहुंचकर जानकारी ली. मौके पर पहुंचे एएसपी सुखनंदन राठौर ने बताया कि घटना को गंभीरता से लेते हुए थाना प्रभारी समेत 5 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है, वहीं मामले की न्यायिक जांच का आदेश दे दिया गया है.

पाण्डुका थाना में ठगी के आरोपी ने की खुदकुशी, टीआई समेत पांच पुलिस वाले निलंबित....

पुलिस के बताए अनुसार, ग्राम लोहरसी, थाना पाण्डुका निवासी सेवक राम साहू (50 वर्ष) पिता बुद्धु राम साहू ने जायका आटोमोबाइल अभनपुर के सेल्समैन सुनील श्रीवास (30 वर्ष) पिता स्व. कमल नारायण श्रीवास के खिलाफ ठगी की शिकायत दर्ज कराई थी.

सुनील श्रीवास ने सेवक राम को नई गाड़ी बिना फाइनेंस के दिलाने के नाम पर उसके द्वारा दिए 6,37,000 रुपए को शोरूम में जमा करने की बजाए स्वयं खर्च कर लिया. वहीं पुरानी गाड़ी की फाइनेंस की गई रकम को अपने खाते में ट्रांसफर कराकर जमा नहीं किया.

कंपनी की ओर से प्रीमियम जमा करने के लिए कंपनी की ओर जब जब प्रार्थी सेवक राम को ताकीद किया गया तब उसे सुनील द्वारा ठगी करने का पता चला. इस पर सेवक राम के पैसा वापस मांगने पर सुनील उसे घुमाने लगा. इसके बाद सेवक राम के शिकायत दर्ज कराने पर पाण्डुका थाना में धारा 420 के तहत सुनील के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे घेराबंदी कर चंगोराभाठा, रायपुर से गिरफ्तार किया गया था.

Back to top button