देश में सबसे ज्यादा सेल्स वाला सेगमेंट बन सकता है SUV, जाने वजह

घट सकता है हैचबैक कारों का मार्केट शेयर

नई दिल्ली: Maruti Suzuki S-Presso की लोकप्रियता का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि महज 11 दिनों के भीतर इसके 10000 यूनिट्स की बुकिंग हो चुकी है।

भारत की सबसे बड़ी कार कंपनी की यह नई कार सामने से देखने में SUV जैसी लगती है। यही कारण है कि कंपनी इसे Mini SUV कहती है। इसमें 10 से भी ज्यादा नए सेफ्टी फीचर्स दिए गए हैं।

साल के आखिर तक केवल 2% रह जाएगा अंतर

वीइकल्स मार्केट का अनुमान लगाने वाली फर्म IHS मार्किट के मुताबिक, 2019 के अंत तक हैचबैक और यूटिलिटी वीइकल्स के शेयर में केवल दो पर्सेंट का अंतर रह जाएगा। हैचबैक की 40 पर्सेंट और UV की 38 पर्सेंट हिस्सेदारी होगी। 2020 में UV सेगमेंट हैचबैक से आगे निकल जाएगा।

अगले तीन साल में कम से कम तीन दर्जन यूटिलिटी व्हीकल लॉन्च होने वाली हैं। इस दौरान एक दर्जन हैचबैक मार्केट में आएंगी, जिनमें ज्यादातर मारुति सुजुकी के मॉडल होंगे। MG मोटर और किआ मोटर्स चार और महिंद्रा, मारुति, टाटा मोटर्स और हुंडई 2-3 UV लॉन्च करेंगी।

टॉप 10 शहरों में मिड और बड़े साइज की SUV की डिमांड

IHS मार्किट के कंट्री लीड (प्रॉडक्शन फॉरकास्टिंग) गौरव वांगल ने बताया कि कई नई SUV के लॉन्च के साथ 2020 में यूटिलिटी वीइकल्स सेगमेंट हैचबैक से आगे निकल जाएगा। उन्होंने बताया, ‘छोटे शहरों में लोग अभी भी हैचबैक और सेडान खरीद रहे हैं।

हालांकि, टॉप 10 शहरों के खरीदार छोटी गाड़ियों से मिड और बड़े साइज की SUV में अपग्रेड कर रहे हैं। SUV सुरक्षित और मॉडर्न होने के साथ शहरी खरीदारों की मांग के मुताबिक बेहतर तकनीक पर बनी हैं।’

माइक्रो SUV लाने की तैयारी में कंपनियां

SUV की बढ़ती मांग के बीच ऑटोमोबाइल कंपनियां इस डिजाइन की छोटी कारें बनाने पर मजबूर हो गए हैं। मार्केट में क्विड और एसप्रेसो जैसी गाड़ियां लॉन्च की जा रही हैं। अगले कुछ वर्षों में Hyundai मोटर, टाटा मोटर्स, रेनॉ-निसान और PSA 5-7 लाख की स्मॉल और माइक्रो SUV लाने वाली हैं।

पिछले चार साल में नई कारों की संख्या भले घटी है, लेकिन इस दौरान कई नई SUV लॉन्च हो चुकी हैं। CLSA के डेटा के मुताबिक, वित्त वर्ष 2016 से अब तक लॉन्च हुईं गाड़ियों में 40-100 पर्सेंट SUV थीं।

वांगल का मानना है कि यह चलन जल्द देश के छोटे शहरों में बढ़ने वाला है। IHS मार्किट का अनुमान है कि यूटिलिटी वीइकल्स की बिक्री बढ़ने से 5-7 साल में हैचबैक का शेयर घटकर 30-35 पर्सेंट पर आ जाएगा।

JATO डायनेमिक्स के सीनियर एनालिस्ट फिलिप मुनोज ने बताया कि भारत में SUV की पहुंच अभी भी कम है। भविष्य में इसके विस्तार की काफी क्षमता है। हालांकि, किफायती SUV लाना और उसे मुश्किल ड्राइविंग कंडिशन और जटिल नियमों के मुताबिक तैयार करना चुनौतीपूर्ण होगा।

Back to top button