Bollywoodबॉलीवुड

बॉलीवुड में संजीदा हीरोइन मानी जाने वाली तब्बू आज मना रही अपना 47वां जन्मदिन

पंद्रह साल की उम्र में की थी अपने करियर की शुरुआत

बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्रियों में से एक तब्बू आज अपना 47वां जन्मदिन मना रही हैं। तब्बू को बॉलीवुड की सबसे संजीदा हीरोइन माना जाता है। उनका जन्म 4 नवंबर 1971 को हैदराबाद में हुआ था। इनका असली नाम तबस्सुम फातिमा हाशमी हैं। इनके पिता का नाम जमाल हाशमी और मां का नाम रिजवाना हैं। तब्बू की एक बड़ी बहन फरहा नाज है, वह भी अभिनेत्री रही हैं। तब्बू की प्रारंभिक पढ़ाई सेंट ऐंस हाई स्कूल हैदराबाद से हुई हैं। इसके बाद वह 1983 में मुम्बई आ गईं। उन्होंने सेंट जेवियर्स कॉलेज से 2 साल तक पढ़ाई की।

तब्बू ने अपने करियर की शुरुआत पंद्रह साल की उम्र में ‘हम नौजवान'(1985) फिल्म से की। इस फिल्म में उन्होंने देव आनंद की बेटी का किरदार निभाया था। एक अभिनेत्री के रूप में उनकी पहली भूमिका एक तेलुगू फिल्म, कुली नंबर 1 में थी। दिसम्बर 1987 में, बोनी कपूर ने अपनी दो बड़ी फिल्मों, रूप की रानी चोरों का राजा एवं प्रेम, की शुरुआत की। प्रेम में तब्बू को संजय कपूर के साथ लिया गया। यह फिल्म आठ साल में बनकर तैयार हुई।

मुख्य अभिनेत्री के तौर पर उनकी पहली हिंदी फिल्म रही ‘पहला पहला प्यार’। इसके बाद आई फिल्म ‘विजयपथ’ जिसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ नवोदित अभिनेत्री का फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला। इसके बाद उनकी कई फिल्में आईं जिसके लिए उन्हें आलोचकों के साथ-साथ दर्शकों से भी खूब वाहवाही मिली। इसमें माचिस, विरासत, हु तू तू, अस्तित्व, चांदनी बार, चीनी कम और हैदर अहम हैं।

वे भारत की निपुण अभिनेत्रियों में से एक मानी जाती हैं। वे मुख्य रूप से हिंदी फिल्मों में अभिनय करती हैं। इसके अलावा उन्होंने अंग्रेजी, तेलगु, तमिल, मलयालम, मराठी और बंगाली फिल्मों में भी काम किया हैं। उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का दो बार राष्ट्रीय और 6 बार फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिल चुका हैं। उन्हें भारत सरकार की तरफ से पद्मश्री सम्मान भी मिल चुका हैं।

इमोशनल फिल्में करना तब्बू को है पसंद

अपनी फिल्मों एवं भूमिकाओं के मामले में काफी चुनिन्दा मानी जाने वाली तब्बू का कहना है कि ‘मैं वही फ़िल्में करती हूं, जो मुझे भावुक बना दे एवं सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि फिल्म की यूनिट एवं निर्देशक मुझे प्रभावित करने चाहिए।

सफलता

1996 में तब्बू की आठ फ़िल्में रिलीज़ हुईं। इनमें से दो फ़िल्में, साजन चले ससुराल एवं जीत काफी सफल रहीं; दोनों ने ही उस साल की टॉप पांच फिल्मों में जगह बना ली. उनकी अन्य महत्वपूर्ण फिल्म माचिस फिल्म समीक्षकों द्वारा काफी सराही गयी थी। इस फिल्म में, सिक्ख आतंकवाद के उदय के समय पकड़ी जाने वाली एक पंजाबी महिला की उनकी भूमिका को बहुत सराहना मिली एवं उन्हें सर्वश्रष्ठ अभिनेत्री का अपना पहला राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड मिला।

1997 में रिलीज़ होने वाली उनकी पहली फिल्म थी बॉर्डर। यह फिल्म 1997 के भारत-पाक युद्ध के दौरान लोंगेवाला की लड़ाई से जुड़ी जीवन की सच्ची घटनाओं के बारे में थी। उन्होनें इस फिल्म में सन्नी देवल की पत्नी की भूमिका निभाई थी। उनकी भूमिका इस फिल्म में छोटी थी, लेकिन यह फिल्म 1997 की सबसे बड़ी हिट बनी। उसी वर्ष, उन्होंने समीक्षकों द्वारा सराही गयी फिल्म विरासत में भी भूमिका निभाई. यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल रही; तब्बू को अपने अभिनय के लिए फिल्मफेयर समीक्षक अवॉर्ड मिला।

अवार्ड्स


फिल्म माचिस (1996) और चांदनी बार (2002) में अपने प्रदर्शन के लिए तब्बू बेस्ट एक्ट्रेस के लिए 2 राष्ट्रिय फिल्म अवार्ड की हक़दार रह चुकी हैं। साथ ही उन्हें छः फिल्मफेयर अवार्ड, जिनमे से चार बेस्ट एक्ट्रेस का क्रिटिक्स अवार्ड फिल्म विरासत (1997), हु तु तु (1999), अस्तित्व (2000) और चीनी कम (2007) के लिए और 1 फिल्म हैदर (2014) के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवार्ड और एक फिल्मफेयर अवार्ड (साउथ फिल्म) और बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस तेलगु फिल्म के लिए शामिल हैं।<>

Summary
Review Date
Reviewed Item
बॉलीवुड में संजीदा हीरोइन मानी जाने वाली तब्बू आज मना रही अपना 47वां जन्मदिन
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt