सर्दियों के मौसम में यूं रखें बुजुर्गों का ख्याल, जीवनशैली में करें ये बदलाव

सर्दियों का मौसम हर किसी के लिए मुश्किलों भरा होता है, यह मौसम युवा और बच्चों के लिए मुश्किलों भरा होता ही हैं साथ-साथ बुजुर्गों के लिए भी मुश्किलें कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती हैं। उम्र के साथ प्रतिरोधक क्षमता थोड़ी कम हो जाने के कारण इस मौसम में उनमें कई स्वास्थ्य समस्याओं की आशंका रहती है।

-आइए जानते हैं इस मौसम में होने वाली समस्या-

1. सर्दी के मौसम में बुजुर्गों में डायबिटीज और हाइपरटेंशन जैसी परेशानी सामान्य नहीं होतीं, इस मौसम में ये परेशानियां कुछ और बढ़ जाती हैं।

2. खून हमारे अंदर जीवन होने का एक प्रतीक है। इसे लेकर भी बुजुर्गों की परेशानी बढ़ जाती है। ठंड बढ़ने से कई बार खून थोड़ा गाढ़ा हो जाता है, जिससे नाड़ी में सिकुड़न बढ़ जाती है।

3. इस मौसम में बुजुर्गों में हार्ट की बीमारी बढ़ने की आशंका होती है। दरअसल, मौसम बदलते ही हमारी जीवनशैली भी बदलने लगती है।

लोग मांस, मछली के साथ घी ज्यादा खाते हैं और प्यास कम लगने की वजह से पानी कम पीते हैं।

धुंध होने की वजह से प्रदूषण के कण नीचे आ जाते हैं, जो हार्ट तक पहुंचते हैं। इससे हार्ट की बीमारी की आशंका बनी रहती है।

4. नसों के सिकुड़न का खतरा ठंड की वजह से बढ़ जाता है। जब नसें सिकुड़ जाती हैं, तब शरीर में खून के संचार के लिए हार्ट को ज्यादा पंप करना पड़ता है।हार्ट का काम बढ़ जाने से ब्लड प्रेशर बढ़ता है और फिर हार्ट अटैक का खतरा भी ज्यादा हो जाता है।

5. सर्दी के मौसम में बुजुर्गों को कोई भी बीमारी झट से अपना शिकार बना लेती है। दरअसल, इस मौसम में बुजुर्गों के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। फिर मौसम परिवर्तन का असर भी इन पर तुरंत होता है।

6. बुजुर्गों में ठंड के मौसम में बैक्टीरिया और वायरस संबंधी बीमारी की आशंका काफी बढ़ जाती है। सर्दी, खांसी, बुखार, बदन दर्द जैसी परेशानियां बढ़ जाती है। इसके अलावा ठंड की वजह से बुजुर्गों की आंखें शुष्क हो जाती हैं और फिर वे चिपकने लगती हैं।

क्या करें, क्या न करें

अस्थमा, डायबिटीज, हाई बीपी, दिल की बीमारी की परेशानी से जूझ रहे बुजुर्गों को इस मौसम में गुनगुना पानी पीना चाहिए, ताकि सर्दी, जुकाम और खांसी की समस्या दूर रहे। गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करना काफी फायदेमंद होता है।

ठंड के मौसम की शुरुआत से पहले डायबिटीज के मरीज और 60 साल से ज्यादा की उम्र के बुजुर्ग कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (लिपिड प्रोफाइल) जरूर कराएं, क्योंकि इस मौसम में शरीर को गर्मी देने के लिए नसें सिकुड़ने लगती हैं और खून गाढ़ा हो जाता है।

इससे खून के संचार में परेशानी आती है और फिर पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाने के कारण दिल का काम आम दिनों के मुकाबले बढ़ जाता है।

जीवनशैली में करें जरूरी बदलाव

ठंड के मौसम में बुजुर्गों को अपनी जीवनशैली को इस तरह से ढाल लेना चाहिए कि कोई परेशानी न हो। ठंडे माहौल में न जाएं। बाहर निकलने से पहले खुद को ऊनी कपड़ों से सुरक्षित कर लें। तानाव में न रहें और तनाव कम करने के लिए थोड़ा व्यायाम जरूर करें।

1
Back to top button