बिज़नेसराष्ट्रीय

इस डेडलाइन से पहले ही निपटा ले इनकम टैक्स से जुड़े कुछ काम

सरकार ने कोरोना संकट को देखते हुए इसकी डेडलाइन को 31 मार्च से बढ़ाकर 30 सितंबर कर दिया था

नई दिल्ली: वित्त वर्ष 2018-19 का विलंबित ITR अब तक दाखिल नहीं किया है, तो आज आपके पास आखिरी दिन बचा है. सरकार ने कोरोना संकट को देखते हुए इसकी डेडलाइन को 31 मार्च से बढ़ाकर 30 सितंबर कर दिया था.

अगर कोई टैक्सपेयर विलंबित ITR 30 सितंबर तक दाखिल नहीं करता है, तो वो वित्त वर्ष 2018-19 के लिए ITR नहीं भर पाएगा, बशर्ते की उसे इनकम टैक्स कोई नोटिस भेजकर भरने के लिए कहे.

आपने इनकम टैक्स रिटर्न तो भर लिया है लेकिन उसको वेरिफाई नहीं किया है तो आपके पास सिर्फ आज का ही दिन है. सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (CBDT) ने उन टैक्सपेयर्स को आखिरी मौका दिया है जिनके असेसमेंट ईयर 2015-16, 2016-17, 2017-18, 2018-19 और 2019-20 के इनकम टैक्स रिटर्न वेरिफाई नहीं हुए हैं. याद रखें ये सिर्फ वन टाइम मोहलत है.

एक बाद ध्यान रखें, अगर आपने ITR भरकर जमा कर दिया है लेकिन उसे वेरिफाई नहीं किया है तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ये मानकर चलता है कि आपने ITR नहीं भरा है. उसके बाद IT डिपार्टमेंट आप पर कार्रवाई भी कर सकता है. एक और काम की बात, अगर आपने टैक्स रिफंड क्लेम किया है तो वो तभी मिलेगा जब आपने ITR वेरिफाई किया हो और IT डिपार्टमेंट में उसकी प्रक्रिया समय पर पूरी हो.

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस (LTCG) पर टैक्स से बचने के लिए निवेश की प्रक्रिया पूरी करने का आज आखिरी दिन है. वित्त मंत्रालय की ओर से जारी एक प्रेस रिलीज के मुताबिक LTCG पर टैक्स क्लेम करने के मकसद से किए गए निवेश/निर्माण/खरीद की आखिरी तारीख बढ़ाकर 30 सितंबर 2020 कर दी गई थी.

इसे ऐसे समझिए कि आपने अगर कोई घर या प्रॉपर्टी बेचकर कैपिटल गेंस कमाया है तो उस पर आपको टैक्स चुकाना होगा, लेकिन आप इस टैक्स से बचना चाहते हैं तो आपको घर बेचकर मिले पैसे को किसी दूसरी प्रॉपर्टी में निवेश करना होगा, जिसके लिए आपके पास सिर्फ आज का ही दिन है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button