जम्मू-कश्मीर पर राष्ट्रहित को ध्यान में रखकर कदम उठाए सरकार – मनीष तिवारी

नई दिल्ली: कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर में मौजूदा हालात के लिए केंद्र सरकार की नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुए शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान की सीमा से लगे इस संवेदनशील राज्य में सामान्य स्थिति बहाल होना जरूरी है और इसके लिए सरकार को राष्ट्रहति को ध्यान में रखकर कदम उठाना चाहिए।

पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी ने मीडिया से कहा, हम चाहते हैं कि कि जम्मू-कश्मीर की परिस्थिति सामान्य हो। जम्मू-कश्मीर के लोगों के जख्मों पर मरहम लगाने की जरुरत है। यह सीमा से लगा राज्य है। संवेदनशीलता से काम करने की जरुरत है और राष्ट्रहित को दल हित से ऊपर रखकर चलने की आवश्यकता है।

उन्होंने आरोप लगाया, 2015 से लेकर 2018 तक भाजपा-पीडीपी की सरकार ने कश्मीर की परिस्थिति को बिल्कुल अराजकता के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है। उसका सबसे बड़ा प्रमाण ये है कि जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग लोकसभा का उपचुनाव भी पिछले एक वर्ष से ज्यादा समय से लंबित है। कश्मीर में आज जो हालात हैं, उनके लिए सीधी-सीधी केन्द्र सरकार भी जिम्मेदार है।

मलेशिया सरकार द्वारा जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण से मना किए जाने के बारे में पूछे जाने पर तिवारी ने कहा, ये तो सरकार और मलेशिया सरकार के बीच की बात है। भारत सरकार को जवाब देना चाहिए कि अगर उनकी गुहार स्वीकार नहीं हो रही है तो इसका मतलब ये है कि या तो उन्होंने पूरी तरह से अपना होमवर्क नहीं किया या जो भी दस्तावेज इन्होंने दिए हैं, उसमें कुछ खामी है।

Back to top button