छत्तीसगढ़

प्रतिभाशाली और खेलों के प्रति समर्पित हैं, छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी : डॉ. रमन

-मुख्यमंत्री शामिल हुए राज्य खेल पुरस्कार अलंकरण समारोह में

रायपुर :

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि छत्तीसगढ़ अकेला राज्य है जहां खिलाडियों को प्रोत्साहित करने के लिए हर वर्ष राज्य खेल पुरस्कार अलंकरण समारोह आयोजित किया जाता है। छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी प्रतिभाशााली और खेलों के प्रति समर्पित हैं। हमारे खिलाड़ी संसाधनों के मामले में दूसरे राज्यों के खिलाडियों से पीछे न रह जाए इसलिए खिलाडियों को पुरस्कार स्वरूप नगद राशि भी प्रदान की जाती है।

डॉ. सिंह आज यहां मेडिकल कॉलेज परिसर स्थित अटल बिहारी वाजपेयी सभागार में आयोजित राज्य खेल पुरस्कार अलंकरण समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने समारोह में प्रदेश के उत्कृष्ट खिलाडियों को राज्य खेल अलंकरण पुरस्कार से सम्मानित किया। उन्होंने प्रदेश के 447 खिलाडियों को लगभग 95 लाख रुपए की पुरस्कार राशि, स्मृति चिन्ह और प्रमाण पत्र प्रदान किए।

इन खिलाडियों में से खेलों में उत्कृष्ठ प्रदर्शन करने वाले 76 खिलाडियों को राज्य खेल अलंकरण पुरस्कार के रूप में 49 लाख 25 हजार रुपए की राशि और वर्ष 2017-18 की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक विजेता 20 खेलों के 371 खिलाडियों को 45 लाख रुपए की पुरस्कार राशि प्रदान कर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने की। उत्कृष्ट खिलाडियों को शहीद राजीव पांडेय पुरस्कार, शहीद कौशल यादव पुरस्कार, शहीद पंकज विक्रम पुरस्कार, शहीद विनोद चौबे पुरस्कार, खेल प्रशिक्षकों और खेल निर्णायकों को वीर हनुमान सिंह पुरस्कार प्रदान किये गये।

डॉ. सिंह ने कहा कि मेरी हार्दिक इच्छा है कि छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी राष्ट्रीय खेलों के साथ एशियाई खेलों, कॉमनवेल्थ खेलों और ओलंपिक खेलों में भी पदक जीते। उन्होंने ने कहा ओलंपिक खेलों में पहुंचने वाले छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी 10 लाख रूपये की पुरस्कार राशि दी जाएगी। ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने पर 2 करोड़ रूपये, रजत पदक जीतने वाले खिलाड़ी को डेढ़ करोड़ रूपये और कास्य पदक जीतने वाले खिलाडियों को एक करोड़ रूपये का पुरस्कार दिया जाएगा।

उन्होंने इस अवसर पर राष्ट्रीय खेलों में शामिल होने वाले छत्तीसगढ़ के खिलाडियों का दैनिक भत्ता एक सौ रूपये से बढ़ाकर 350 रूपये करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खेल अधोसंरचना विकसित की जा रही है। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, अंतर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम, सभी जिला मुख्यालयों में ऑउटडोर स्टेडियम, प्रदेश में अनेक स्थानों पर इंडोर स्टेडियम और विकासखण्ड स्तर पर मिनी स्टेडियम बनाये गये हैं। इनसे प्रदेश में खेलों का अच्छा वातावरण बना है।

उन्होंने राज्य खेल अलंकरण से सम्मानित खिलाडियों को उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने इस अवसर पर खेलों के क्षेत्र में विशिष्ठ उपलब्धियां हासिल करने वाले लोगों को विशेष सम्मान र्प्रदान कर सम्मानित किया। विशेष सम्मान से सम्मानित होने वालों में कॉमनवेल्थ खेलों में भारतीय खेल दल का चीफ डी मिशन के रूप में प्रतिनिधित्व करने वाले विक्रम सिंह सिसोदिया, एवरेस्ट पर चढ़ाई पूरी करने वाले छत्तीसगढ़ के युवा राहुल गुप्ता, खेल प्रशिक्षक भूषण साव, ग्रामीण क्षेत्रों में खेलों को प्रोत्साहित करने के लिए कोंडागांव आईटीबीपी के कमांडेंट एस.एस. खत्री और प्रधान आरक्षक त्रिलोचन सिंह, राज्य में खेलों के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए बशीर अहमद खान, खेल अधोसंरचना निर्माण में योगदान के लिए पुलिस उपमहानिरीक्षक अकबर राम कर्राम और ग्रामीण क्षेत्रों के आदिवासी युवाओं को खेलों में प्रशिक्षण देकर प्रोत्साहित करने वाली समाज सेवी संस्था रामकृष्ण मिशन आश्रम नारायणपुर को विशेष सम्मान से सम्मानित किया।

समारोह में सॉफ्टबॉल (पुरुष दल) सीनियर वर्ग को वर्ष 2017-18 के लिए मुख्यमंत्री ट्रॉफी प्रदान की गई। इस टीम ने सीनियर वर्ग की राष्ट्रीय स्पर्धा में लगातार तीन वर्ष स्वर्ण पदक हासिल किए हैं। टीम को पांच लाख रुपए की पुरस्कार राशि दी गई। जुनियर वर्ग में कराते (बालिका)टीम को मुख्यमंत्री ट्राफी और एक लाख रुपए की पुरस्कार राशि प्रदान की गई।

इस टीम ने राष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक हासिल किया है। वर्ष 2017-18 के लिए वीर हनुमान सिंह पुरस्कार- प्रशिक्षक संजय मिश्रा को प्रदान किया गया। मिश्रा ने बैडमिंटन के चार अंतर्राष्ट्रीय खिलाडियों को प्रशिक्षित किया जिन्होंने राज्य के लिए पदक अर्जित किए। वीर हनुमान सिंह निर्णायक पुरस्कार डी कोण्डईया को प्रदान किया गया। कोण्डईया ने वुशू खेल में विदेशों में तीन अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में अंपायरिंग की है। वीर हनुमान सिंह पुरस्कार स्वरूप मिश्रा और कोण्डईया को डेढ़-डेढ़ लाख रुपए की राशि प्रदान की गई।

विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रदेश में खेल सुविधाओं का लगातार विस्तार किया जा रहा है। खेल संघों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। जिससे छत्तीसगढ़ की खेल प्रतिभा को सामने आने का मौका मिले उन्होंने बताया कि बलौदाबाजार भाटापारा जिले के कसडोल में 5 करोड़ रूपये की लागत से स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है। अग्रवाल ने कहा आज सम्मानित हो रहे खिलाडियों से नई पीढ़ी को खेलों में आगे बढने की प्रेरणा मिलेगी।

खेल मंत्री भैयालाल राजवाड़े ने कहा कि भारत सरकार की सहयोग से जशपुर में अंतर्राष्ट्रीय एस्टोटर्फ हॉकी स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि रायपुर, राजनांदगांव और बिलासपुर में अंतर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम बनाये जा चुके हैं। खेलों को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार ने नये खेल नीति बनाई है।

इस अवसर पर लोकसभा सासंद रमेश बैस, कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रव्राल, लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत, विधायक सत्यनारायण शर्मा और श्रीचंद सुंदरानी, छत्तीसगढ़ राज्य पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष देवजी भाई पटेल, राज्य युवा आयोग के अध्यक्ष श्री कमल चंद भंजदेव, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव, खेल एवं युवा कल्याण विभाग के सचिव डीडी सिंह, संचालक धर्मेश साहू, स्वास्थ्य आयुक्त आर. प्रसन्ना और मुख्यमंत्री के खेल सलाहकार विक्रम सिंह सिसोदिया सहित अनेक खेल संघों के पदाधिकारी और खिलाड़ी बड़ी संख्या में इस अवसर पर उपस्थित थेे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
प्रतिभाशाली और खेलों के प्रति समर्पित हैं, छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी : डॉ. रमन
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt