तालिबान ने अमेरिका को दी धमकी: 31 अगस्त तक का दिया ये अल्टीमेटम, अपने मिशन में जुटा अमेरिका

तालिबान मौजूदा निकासी मिशन (विदेशी सेना की वापसी) के लिए 31 अगस्त की समयसीमा को आगे नहीं बढ़ाएगा। तालिबान के प्रवक्ता, मुहम्मद सुहैल शाहीन ने बीबीसी को बताया कि ब्रिटेन 31 अगस्त से आगे अंतर्राष्ट्रीय निकासी के लिए समय सीमा बढ़ाने पर दबाव डालेगा।

शाहीन ने कहा कि विदेशी बलों को पहले घोषित की गई समय सीमा पर कायम रहना चाहिए। अन्यथा, यह एक स्पष्ट उल्लंघन है। तालिबानी प्रवक्ता ने कहा कि अगर अमेरिका अपने सैनिकों की वापसी में देरी करता है, तो उसको इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। शाहीन ने आगे कहा कि इस तरह के कदम पर तालिबान की प्रतिक्रिया समूह के नेतृत्व के लिए एक निर्णय होगा।

तालिबान शासन के तहत अपने जीवन के डर का हवाला देते हुए, हजारों अफगान महीने के अंत की समय सीमा से पहले देश से भागने की कोशिश कर रहे हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि अंतरराष्ट्रीय बलों के जाने और हवाईअड्डे पर नियंत्रण समाप्त करने के बाद देश के अंदर और बाहर अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की अनुमति दी जाएगी या नहीं।

इस बीच अमेरिका ने अफगानिस्तान की राजधानी काबुल से सोमवार को करीब 10,900 लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है। अमेरिका की ओर से तालिबान से इन लोगों को खतरा देखते हुए निकासी प्रक्रिया तेज कर दी है।

व्हाइट हाउस के रैपिड रिस्पांस डायरेक्टर माइक ग्विन ने ट्वीट कर मंगलवार को बताया किया सोमवार को 12 घंटों के बीच 10,900 लोगों को काबुल से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। अमेरिका अब तक पिछले 10 दिनों में 48 हजार के करीब लोगों को काबुल से बाहर निकाल चुका है। अफगानिस्तान में जोखिम भरे हालात को देखते हुए अमेरिका, ब्रिटेन समेत विभिन्न देशों ने अपने नागरिकों और अन्य राजनयिक अधिकारियों को वहां से बाहर निकालने का अभियान शुरू किया था।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button