रमजान के दौरान चुनाव पर उठे विवाद पर बोला EC

शुक्रवार और खास त्यौहार का रखा गया है ध्यान

नई दिल्ली। सात चरणों में होने जा रहे लोकसभा चुनाव 2019 के लंबे शेड्यूल के साथ ही रमजान के महीनें में मतदान कराए जाने को लेकर कुछ धार्मिक गुरु और राजनेता नाराज़गी जता चुके हैं। मुस्लिमों के पवित्र त्यौहार रमज़ान में मतदान रखे जाने की वजह से इन लोगों ने कम वोटिंग होने की आशंका भी जताई है। इस बीच चुनाव आयोग की ओर से भी बयान जारी किया गया है।

चुनाव आयोग का कहना है कि चुनाव पूरे महीनें होंगे ऐसे में रमजान को इससे अलग नहीं किया जा सकता। हालांकि रमजान के दौरान आने वाले मुख्य त्यौहारों और शुक्रवार के दिन का ध्यान रखते हुए इन दिनों में मतदान नहीं रखा गया है।

बता दें कि 6 मई से रमजान की शुरुआत होने जा रही है,वहीं चुनाव आयोग के तय कार्यक्रम के अनुसार अंतिम मतदान 19 मई को होगा। ऐसे में ऐशबाग ईदगाह के इमाम और शहर काज़ी मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने 6 मई से 19 मई तक होने वाले चुनाव को लेकर आपत्ति ली है। कोलकाता के महापौर और तृणमूल कांग्रेस के नेता फिरहद हाकिम इसे लेकर नाराज़गी ज़ाहिर कर चुके हैं।

Back to top button