महिला सशक्तिकरण को राज्य सरकार ने बनाया अपना मूलमंत्र : डॉ. रमन

- घने जंगलों और पहाड़ों से घिरे मदनपुर में मुख्यमंत्री की आमसभा

रायपुर :

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य सरकार ने प्रदेश में महिला सशक्तिकरण को अपना मूलमंत्र बनाया है। संचार क्रांति योजना में 40 लाख महिलाओं को निःशुल्क स्मार्ट मोबाइल फोन दिए जा रहे हैं।

अब तक 20 लाख महिलाओं को मोबाइल फोन मिल चुके हैं। राज्य सरकार ने बेटियों की निःशुल्क शिक्षा, महिलाओं के स्वास्थ्य और आर्थिक स्वावलम्बन के लिए अनेक योजनाएं प्रारंभ की हैं, जिनका लाभ लेकर महिलाएं सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ रही हैं। डॉ. सिंह आज प्रदेश व्यापी अटल विकास यात्रा के अंतर्गत कोरबा जिले में घने जंगलों और पहाड़ों से घिरे मदनपुर गांव में आयोजित एक विशाल आम सभा को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हाथियों से प्रभावित इस क्षेत्र में सभी कच्चे मकान पक्के बनाए जाएंगे। ग्रामीणों ने उत्साह के साथ मुख्यमंत्री का स्वागत किया।

डॉ. सिंह ने आमसभा में लगभग 109 करोड़ रूपये के 54 कार्यों का लोकार्पण, शिलान्यास और भूमिपूजन किया। उन्होंने लगभग 96 करोड़ 59 लाख रूपए की लागत से पाली-सिल्ली तक 21.50 किलोमीटर लम्बी सड़क के उन्नयन और सुदृढ़ीकरण कार्य का शिलान्यास किया। आमसभा में उन्होंने 10 हजार 649 हितग्राहियों को शासन की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं में सामग्री और सहायता राशि वितरित की।

डॉ. सिंह ने आमसभा में कहा कि खनिज संसाधनों से समृद्ध कोरबा जिले का छत्तीसगढ़ के विकास में महत्वपूर्ण योगदान है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा खनिज बहुल जिलों में जिला खनिज न्यास के गठन के फैसले से सिर्फ कोरबा जिले को ही नहीं पूरे छत्तीसगढ़ को विकास कार्यो के लिए अतिरिक्त आर्थिक संसाधन मिल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कोरबा जिले में आने वाले 50 वर्षों तक विकास कार्यों के लिए आर्थिक संसाधनों की कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि कोरबा जिले में 150 करोड़ रूपए की लागत से दंतेवाड़ा और बीजापुर से भी बड़े एजुकेशन हब का निर्माण किया जा रहा है। जिला खनिज न्यास की राशि से ही कोरबा में सेन्ट्रल इन्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी (सिपेट) की स्थापना की जा रही है। इन दोनों ही संस्थानों का लाभ पूरे छत्तीसगढ़ को मिलेगा। डॉ. सिंह ने बताया कि डीएमएफ से इस क्षेत्र में 211 करोड़ रूपए की लागत से 761 कार्य स्वीकृत हुए है और पूरे कोरबा जिले में एक हजार 52 करोड़ रूपए की लागत के 2767 काम स्वीकृत हुए हैं।

डॉ. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में इस क्षेत्र को गरीब परिवार की 45 हजार 453 महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन और पूरे कोरबा जिले में एक लाख 25 हजार महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिए गए हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत कोरबा जिले के इस क्षेत्र में 22 हजार 328 गरीब परिवारों को डेढ़ लाख रूपए की लागत के पक्के मकान बनाकर दिए जा रहे हैं। इनमें से 10 हजार 900 मकान पूरे हो चुके हैं। इस योजना में पूरे जिले में 44 हजार मकान बनाए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास यात्रा जनता के विश्वास की यात्रा है। मैं जनता का आशीर्वाद लेने के लिए इस यात्रा पर निकला हूॅ। बुजुर्ग माता और बहनंे जब दोनों हाथ उठाकर आशीर्वाद देती हैं, तो संतुष्टि मिलती है। उनके चेहरे की चमक देखकर लगता है कि राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ उन्हें मिल रहा है। डॉ. सिंह ने कहा कि कोरबा जिले के हर पारे, मोहल्लों में बिजली पहुंचाई जाएगी।

जिन घरों में बिजली कनेक्शन नहीं है वहां बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। उन्होंने समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना, आयुष्मान भारत योजना, मुख्यमंत्री खाद्य सुरक्षा योजनाओं की जानकारी दी। आमसभा को लोकसभा सांसद बंशीलाल महतो और पूर्व गृह मंत्री ननकीराम कंवर ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर श्रम, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री भईयालाल राजवाड़े, संसदीय सचिव लखन देवांगन और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष बनवारी लाल अग्रवाल सहित अनेक जनप्रतिनिधि और ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Back to top button