छत्तीसगढ़

दीवाली के लम्बी छुट्टी के बाद भी खत्म नहीं हुई शिक्षको की छुट्टी, नदारद

कही दो शिक्षक की वजह एक तो कही से शिक्षक ही गायब

पखांजूर: पखांजूर मुख्यालय से 30 किमी दूर माचपल्ली के आश्रित ग्राम कुआपारा के प्रा.शाला राधेश्याम चंद्रवंसी स्कुल से शिक्षक नदारत थे। वही प्रा.शाला ग्राम बुरखा में दो शिक्षक की जगह एक शिक्षिका फातिमा खालको उपस्तिथ थे और दुसरे शिक्षक चैनुराम नेगी स्कुल से गायब थे ।

जब फातिमा से पूछा गया तो उन्होंने झूठी जानकारी प्रदाय कर अनुपस्तिथ शिक्षक जैनु को स्कुल में होने की बात कह रही थी अगर अंदरूनी क्षेत्र में शिक्षा व्यवस्था बस अप्चारिकता का निर्वहन करता हैं तो इस देश और यह के बच्चो की भविष्य कैसे बदलेगी यह दरकार हैं प्राय अधिकारियो का मॉनिटरिंग और दौरा।

शासकीय स्तर पे बच्चो को अच्छी सुविधा दिलाने की लगातार कोशिसे की जा रही हैं मगर जिम्मेदार शिक्षक स्कुल समय पे स्कुल से नदारत रहेंगे तो क्या शिक्षा व्यवस्था सुधारना मुमकिन हैं आज दूर अंचल के कई स्कुलो से शिक्षक गायब मिले, साथ ही कई जगह ताला भी लटका मिला ग्राम जामकुटनी के प्रा.शाला में तो शिक्षको ने शासन की सारे नियमो को ठेंगा दिखा दिया।

स्कुल में ताला जड़ के घर पे आराम फरमाता रहा स्कुल के सामने मिले गावं के एक ग्रामीण मन्नुराम कवची ने बतलाया शिक्षक अभी चले गए क्यूंकि जंगली इलाका हैं उन्हें क्या कोई रोकेगा टोकेगा कौन उनसे वजह पूछेगा वे स्वयं अपने मर्जी का मालिक हैं।

इस संम्बंध में संकुल समन्वयक मनमथ मल्लिक काम ज्यादा होने के कारन मैं नहीं पहुच पाया हूँ सभी जगह अगर शिक्षक स्कुल से गायब थे कल जा कर देखता हूँ और उन पर कारवाही के लिए उच्च अधिकारी को अवगत करवाता हूँ।

इस संम्बंध में बी.ई.ओ.-के.के.यादव कोयलिबेडा ने बतलाया की सभी संकुल समन्वयक को निर्देशित किया गया था की छुट्टी के बाद सभी स्कुल का निरिक्षण करे ! अगर ऐसी खबर आ रही हैं तो मैं स्वयं जाँच करवाता हूँ ।

Tags
Back to top button