खेल

मेहमान टीम और गुलाबी गेंद से टीम इंडिया मिल सकता है कुछ भी सरप्राइज

कोलकाता में दोपहर 01:00 बजे से खेला जाएगा आखिरी टेस्ट

नई दिल्ली: भारत और बांग्लादेश के बीच आज 22 नवंबर से दूसरा टेस्ट मैच खेला जाना है. दो मैचों की टेस्ट सीरीज का यह आखिरी टेस्ट कोलकाता में दोपहर 01:00 बजे से खेला जाएगा.

इस मैच में कप्तान विराट कोहली कुछ बड़े बदलाव के साथ उतर सकते हैं. पिंक बॉल से लेग स्पिनर को मदद मिलती है, ऐसे में भारतीय टीम आर अश्विन की जगह कुलदीप यादव को अंतिम ग्यारह में शामिल कर सकती है.

पहली बार गुलाबी गेंद से खेलने की वजह से दोनों टीमों की तैयारियां भी जोरों पर हैं. टीम इंडिया के इस बार भी जीतने की बहुत ज्यादा संभावना है, लेकिन उसे मेहमान टीम और गुलाबी गेंद से कुछ सरप्राइज भी मिल सकता है.

रिकॉर्ड कायम रखने की चाह में हैं विराट

इस मैच में विराट कोहली अपने अजेय रिकॉर्ड को आगे बढ़ाना चाहेंगे. वे लगातार छह टेस्ट जीत चुके हैं और पिछले तीन टेस्ट मैच वे पारी के अंतर से जीत चुके हैं. टीम इंडिया के नाम अपने घर में लगातार 11 टेस्ट सीरीज जीतने का रिकॉर्ड है. विराट इस सिलसिले को रोकना नहीं चाहेंगे.

टेस्ट चैंपियनशिप में भले ही टीम इंडिया के अभी सबसे ज्यादा 300 अंक हों लेकिन अगले साल अक्टूबर तक टीम इंडिया को केवल दो ही टेस्ट मैच खेलने हैं वो भी न्यूजीलैंड में. एसे में विराट जीत से कम नहीं चाहेंगे.

विराट समझ रहे हैं आने वाली चुनौती

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली इस बात से पूरी तरह से वाकिफ हैं कि उनकी टीम के लिए बल्लेबाजी एक बड़ी चुनौती हो सकती है. गुलाबी गेंद के बारे में बताया जा रहा है कि वह परंपरागत लाल गेंद के मुकाबले ज्यादा स्विंग होगी.

ऐसे में भारतीय पेसर्स, जो पहले से ही फॉर्म में हैं, को मदद मिल सकती है. विराट जानते हैं कि यही बात बांग्लादेश के लिए भी उतनी ही सही है इसलिए वे पूरी तरह से सावधान हैं.

यह वजह है विराट की चिंता की

इंदौर टेस्ट में वैसे तो भारतीय पेसर्स ने 20 में 14 विकेट उस पिच पर लिए थे, जो बल्लेबाजों के लिए मुफीद मानी जाती है, लेकिन अबु जायेद ने इस मैच में विराट, रोहित, पुजारा, मयंक अग्रवाल और अजिंक्य रहाणे को आउट किया था जिसमें रोहित, पुजारा और विराट तो सस्ते में ही आउट हो गए थे.

टॉस हो सकता है अहम

उम्मीद की जा सकती है कि टॉस जीतने वाली टीम पहले गेंदबाजी करना पसंद करे और पिच और गेंद का फायदा उठा कर शुरुआती दबाव बनाने की कोशिश कर सकती है. ऐसे में टॉस हारने पर विराट मुश्किल में भी आ सकते हैं जबकि उन्हें यह पता नहीं होगा कि दूसरी पारी लो स्कोरिंग होगी या नहीं. दोनों टीमों के बल्लेबाजी में खास ध्यान रखना होगा और सस्ते में विकेट गंवाने की टीम को बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़े तो इसमें हैरानी नहीं होनी चाहिए.

स्पिनर्स के सामने होगी यह चुनौती

स्पिनर्स को भी इस मैच में ज्यादा फायदा मिलने की उम्मीद नहीं हैं गेंद पर गुलाबी रंग की दोहरी परत होगी जिससे गेंद की चमक न जाए. वहीं परंपरागत लाल गेंद पर डाई की जाती है जिससे उसका रंग जाने के बाद गेंद पर चमड़े का खुरदुरापन उजागर हो जाता है जिससे स्पिनर्स को मदद मिलती है और रिवर्स स्विंग के मामले में तेज गेंदबाजों को भी. कहा जा रहा है कि काले धागे में हुई दोहरी सिलाई स्विंग और रिवर्स स्विंग दोनों में मदद करेगी.

तो क्या इंदौर की तरह यहां भी जल्द निकलेगा नतीजा

यह नामुमकिन नहीं है. दोनों पारियों में स्विंग देखने को मिल सकती है ऐसे में विकेट जल्दी जल्दी गिरेंगे तो हो सकता है कि नतीजा जल्द मिले. काफी कुछ बांग्लादेश की बल्लेबाजी पर भी निर्भर होगा.

भारतीय पेसर्स तो बेहतरीन फॉर्म में हैं ही, अगर बांग्लादेशी बल्लेबाजों ने इस बार वापसी नहीं की तो नतीजा जल्दी ही मिल सकता है हां, इस बार बड़े स्कोर की उम्मीद कम ही है, लेकिन क्रिकेट का रोमांच के कायम रहेगा यह तय है. वहीं बांग्लादेश की टीम वापसी में सक्षम नहीं ऐसा भी बिलकुल नहीं हैं.

Tags
Back to top button