राष्ट्रीय

26/11 मुंबई हमले के दस साल बाद तटीय सुरक्षा की क्षमता बढ़ी: एडमिरल लांबा

एडमिरल सुनील लांबा ने कहा कि दुनिया के लिए समस्या बन चुके समुद्री लुटेरों पर लगाम कसने के लिए कई ऑपरेशन चलाए गए. पिछले 10 साल में जहाजों में लूट की 44 कोशिशें नाकाम की गईं.

नई दिल्ली। दस साल पहले समुद्र के रास्ते मुंबई पर हुए आतंकी हमलों के बाद देश की समुद्री ताकत लगातार बढ़ी है. ऐसा कहना है नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा का.

नौसेना दिवस के मौके पर सोमवार को एडमिरल लांबा में कहा कि भारतीय नौसेना तटीय रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और भारत की पहली परमाणु पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत की पहली पेट्रोलिंग पूरी होने से हमारी रक्षा प्रणाली और मजबूत हुई है.

नौसेना दिवस के मौके पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए एडमिरल सुनील लांबा ने कहा कि 26/11 मुंबई हमले के दस साल बाद तटीय सुरक्षा की क्षमता काफी बढ़ी है. उन्होंने कहा कि आईएनएस विक्रांत के नौसेना में शामिल होने से हमारी ताकत बढ़ेगी.

इसी के साथ स्कॉर्पीन क्लास की पनडुब्बियों ने भी अपने सभी ट्रायल पूरे कर लिए हैं. साथ ही नौसेना के हेलीकॉप्टर फ्लीट की कमी पूरी करने के लिए लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर की खरीद और 25 मल्टीरोल हेलिकॉप्टर की खरीद का रास्ता साफ हुआ है.

चीन की बढ़ती समुद्री ताकत का जिक्र करते हुए एडमिरल सुनील लांबा ने कहा कि हिंद महासागर में 6 से 7 चीनी युद्धपोत हैं.

उन्होंने कहा कि चीन के मुकाबले हम हिंद महासागर में मजबूत हैं. और 2050 तक हमारी नौसेना भी सुपर पावर बन जाएगी, जिसके पास 200 शिप और 500 एयरक्राफ्ट होंगे. जहां तक पाकिस्तान का सवाल है हम उसके मुकाबले काफी बेहतर हैं.

Summary
Review Date
Reviewed Item
26/11 मुंबई हमले के दस साल बाद तटीय सुरक्षा की क्षमता बढ़ी: एडमिरल लांबा
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags