नगर पंचायत घरघोड़ा में खेला जा रहा टेंडर का खेल , होगी कार्यवाही

कुछ ठेकेदार ने मिलजुल कर टेंडर को काफी ज्यादा मुनाफे में लिया

घरघोड़ा: नगर पंचायत घरघोड़ा में पिछले दिनों सीसी रोड नाली निर्माण सहित अन्य कार्यों के लिए निविदाएं आमंत्रित की गई थी लेकिन अधिकारियों की मिलीभगत से कुछ गिने-चुने ठेकेदार ही इस टेंडर प्रक्रिया में शामिल हो सके।

कुछ ठेकेदार ही मिलजुल कर उस टेंडर को काफी ज्यादा मुनाफे में ले लिया जिससे शासन की क्षति होने वाली है बावजूद इसके इस आपत्ति को दरकिनार करते हुए नगर पंचायत की ओर से दोबारा टेंडर नहीं बुलाया गया है और अब इस बात से क्षुब्ध होकर पीड़ित अन्य ठेकेदार कानून का दरवाजा खटखटा रहे हैं।

नगर पंचायत घरघोड़ा में टेंडर का खेल खेला जा रहा है वह भी कुछ गिने-चुने ठेकेदारों के इशारों पर लेकिन अब यह मनमानी नहीं चलने वाली है क्योंकि असंतुष्ट ठेकेदारों ने जिन्हें टेंडर नहीं भरने दिया गया और उनकी आपत्तियों का निराकरण भी नहीं किया गया वह अब कानून का दरवाजा खटखटा रहे हैं।

क्या है पूरा मामला

नगर पंचायत घरघोड़ा की ओर से आधोसंरचना मद के जरिए निविदा क्रमांक 329 दिनांक 13/09/2019 आमंत्रित की गई थी। लेकिन ठेकेदारों के एक सिंडीकेट ने अधिकारियों से मिलीभगत कर अन्य ठेकेदारों को इस प्रक्रिया में भाग नहीं लेने दिया और स्वयं ही महज 1-2 परसेंट के बिलो रेट पर निविदा अपने नाम करा ली गई।

जबकि रायगढ़ जिले में ऐसे ही टेंडर्स में बिलो रेट15 -20 प्रतिशत गया है। लेकिन अधिकारियों की मनमानी और सिंडिकेट के नगर पंचायत पर हावी होने के कारण शासन को भारी क्षति उठानी पड़ रही है वहीं अन्य ठेकेदारों को इस प्रक्रिया से वंचित कर कानूनी प्रक्रिया का पालन नहीं किया जा रहा है।

आपत्तियों का अब तक नहीं किया गया निराकरण

इस मन माने टेंडर प्रक्रिया का विरोध करते हुए वंचित ठेकेदारों ने दोबारा टेंडर प्रक्रिया आहूत करने की मांग करते हुए वर्तमान टेंडर प्रक्रिया का विरोध किया था। लेकिन 9 अक्टूबर को किए गए इस शिकायत पर अब तक कोई कार्यवाही नगर पंचायत की ओर से नहीं की गई है।

ऐसे में अब शिकायत करता हूं की ओर से कानून का दरवाजा खटखटाया जा रहा है और नगर पंचायत के सीएमओ सहित सहायक संचालक और छत्तीसगढ़ शासन को कानूनी नोटिस भेजा गया है। ताकि इसके बाद न्यायालय मैं इस भ्रष्टाचार पूर्वक बांटी गई निविदाओं के खिलाफ़ मामला चलाया जा सके।

Back to top button