तेंदूपत्ता संग्राहकों को भी मिलेगा बोनस : मुख्यमंत्री

जगदलपुर : प्रदेश की 901 प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों में 13 लाख से ज्यादा वनवासी सदस्य हैं। जो हर साल गर्मियों में अतिरिक्त आमदनी के लिए वनों में तेन्दूपत्ता तोडऩे का काम करते हैं। इनको 2 अरब 70 करोड़ रुपए बोनस के रुप में दिए जाएंगे। शुक्रवार को ये बातें प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने जगदलपुर में बोनस तिहार में अपने सम्बोधन के दौरान कही। उन्होंने आगे कहा कि राज्य सरकार ने साल-दर-साल उनका पारिश्रमिक 350 रुपए से बढ़ाकर अब 1800 रुपए प्रति मानक बोरा कर दिया है।
इस मौके पर सीएम ने जिले के प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के 16 हजार 200 सदस्य किसानों को 25 करोड़ 36 लाख रुपए का बोनस ऑन लाइन वितरित किया ।
डॉ. रमन सिंह ने कहा कि धान का बोनस देने का संकल्प हमने लिया था। राज्य सरकार ने जैसे ही धान का बोनस देने की घोषणा की, प्रदेश के किसानों के चेहरों पर खुशहाली की चमक आई है। यह पिछले वर्ष के धान का बोनस था और इस साल के धान का बोनस आने वाले वर्ष दीपावली के पहले किसानों को मिल जाएगा। किसानों के साथ-साथ इसी साल दीपावली के बाद तेंदूपत्ता संग्राहको को भी बोनस दिए जाएंगे। कुल मिलकर इसको मुख्यमंत्री के आदिवासियों को साधने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है ।

Back to top button