छत्तीसगढ़

शहर में सूदखोरों का आतंक, पुलिस मस्त-आम आदमी त्रस्त

भरत मंगवानी:

बिलासपुर: बिलासपुर में फिर एक युवक ने खुदकुशी की। आखिर कब तक सूदखोरों के आतंक से परेशान होकर आम आदमी आत्महत्या करता रहेगा।

बिलासपुर शहर में सूदखोरों के ऊपर आज तक लगाम लगाने में पुलिस विफल रही। एक्का दुक्का कार्यवाही करके पुलिस वाहवाही बटोर रही है, पर कई सौ केस ऐसे है जिसमे सूदखोरों को पुलिस का साथ मिला हुआ है ऐसा लगता है।

पिछले 2 वर्षों में कई युवाओ ने सूदखोरों से परेशान होकर या तो आत्महत्या कर ली या फिर शहर छोड़कर भाग गए। सोमवार को भी सूदखोरों के आतंक से परेशान एक 34 वर्षीय युवक अश्विनी श्रीवास निवासी चोरभट्टी ने परेशान होकर फांसी लगा ली।

आखिर कब तक युवा अपनी जान देते रहेंगे। आखिर क्या बात है कि पुलिस सूदखोरों के ऊपर कोई कड़ी कार्यवाही नही करती है। पुलिस को इस बारे में सोच विचार करना होगा ताकि फिर कोई युवा मौत को गले ना लगाए।

पर अभी हालात यह है कि शहर के सूदखोर 10 से 20 फीसदी महीना ब्याज पर रकम देकर फल फूल रहे है, बिना लाइसेंस के इस अवैध ब्याज के धंधे पर अब लगाम लगनी जरूरी है, नही तो फिर कोई परिवार अपना बेटा ना खो दे।

Tags
Back to top button